Search This Blog

Saturday, 30 September 2017

राजनीतिक मानवाधिकार

'मानवाधिकार' यह शब्द सुनने में पढ़ने में बहुत अच्छा लगता है पर जब यही शब्द हमारे हितों के मार्ग को अवरुद्ध करने लगे तो इसकी सारी मिठास कड़वाहट में तब्दील हो जाती। आजकल 'मानवाधिकार 'सहिष्णुता-असहिष्णुता' जैसे शब्द सिर्फ़ वोट-बैंक के लिए प्रयोग किए जाते हैं। अधिकार चाहे व्यक्तिगत हो या सामाजिक यदि पूर्णतया बंधनमुक्त या पूर्णतः बंधन में बँधा हुआ हो तो समाज और देश दोनों के लिए घातक होता है। समाज में जब तक सभी अधिकार सबके लिए समान नहीं होंगे तब तक विकास का सपना अधूरा ही रहेगा।
हमारे देश में तो दशकों से तुष्टिकरण की भयंकर बीमारी ने इसप्रकार अपने पैर जमा लिए हैं कि स्वयं को समाज का ठेकेदार समझने वालों को अधिकार भी सिर्फ उनके ही नजर आते हैं जिनसे उनको अपना स्वार्थ सिद्ध होता हुआ नजर आता हो। मानवाधिकार जैसे शब्दों का प्रयोग भी वर्गविशेष के लिए होता है।

यदि अतीत में झाँकें तो कुछ साल पहले तक दुर्गा पूजा पश्चिम बंगाल का मुख्य त्योहार हुआ करता था और आज हर वर्ष दुर्गा पूजा के लिए वहाँ के नागरिकों को संघर्ष करना पड़ता है। आज वहाँ का मुख्य त्योहार मुहर्रम है। क्या ये मानवाधिकार का हनन नहीं?
मानवाधिकार सभी मानव मात्र के लिए होता है किसी हिन्दू या मुसलमान के लिए नहीं फिरभी हमारे देश के नेताओं को एक अखलाक की हत्या तो दिखाई पड़ती है परंतु पश्चिम बंगाल में मरते बेघर होते सैकड़ों हजारों हिन्दू नहीं।
दुर्गापूजा के समय हिन्दुओं को पंडाल खड़े करने से रोका जाता है और दर्जनों घटनाओं में दुर्गा पूजा विसर्जन यात्राओं पर हमले होते हैं। इस वर्ष भी दुर्गा पूजा पर राज्य सरकार द्वारा ही व्यवधान उत्पन्न करने का प्रयास किया गया।

अनेक ग्रामों में, हिन्दुओं की सम्पत्ति को नष्ट किये जाने, महिलाओं के उत्पीड़न, मंदिरों तथा मूर्तियों को भ्रष्ट करने की घटनाओं आदि के परिणामस्वरूप हिन्दू समाज इन क्षेत्रों से पलायन करने को विवश हो रहा है, ऐसी ही एक घिनौनी घटना में, पिछले वर्ष 10 अक्तूबर को नदिया जिले के हंसकाली थाना अंतर्गत दक्षिण गांजापारा क्षेत्र में एक दलित नाबालिग बालिका मऊ रजक पर उसके घर में ही हमला करके उसकी हत्या कर दी गई।

तमिलनाडु, केरल एवं कर्नाटक सहित दक्षिण भारत के विभिन्न राज्यों में रा. स्व. सेवक संघ, विहिप, भाजपा एवं हिन्दू मुन्नानी के अनेक कार्यकर्ताओं पर आक्रमण हुए हैं। कुछ स्थानों पर संघ कार्यकर्ताओं की हत्या, करोड़ों रुपयों की सम्पत्ति का विनाश एवं हिन्दू महिलाओं पर अत्याचार हुए हैं, कर्नाटक में एक संघ स्वयंसेवक की व्यस्त सड़क पर दिनदहाड़े हत्या, कर्नाटक में बंगलूरू के अलावा मुडबिदरी, कोडागु एवं मैसूर में जेहादी तत्वों द्वारा कई हिन्दू कार्यकर्ताओं की हत्याएँ हुई हैं।

जिस देश में एक मुस्लिम की हत्या पर विश्व स्तर पर हाहाकार मच जाता है उसी देश में सैकड़ों-हजारों की संख्या में मरते हुए हिन्दुओं को न अंधी मीडिया देख पाती और न ही मानवाधिकार का रोना रोने वाले तथाकथित समाज के ठेकेदार नेता।
रोहिंग्या मुसलमानों का पक्ष लेती जो पार्टियाँ भी मानवाधिकार का खोल लेकर खड़ी हैं वो रोहिंग्या के द्वारा किए गए हिन्दुओं के सामूहिक नरसंहार को न ही देख रहीं और न देखना चाहतीं, उन्हें कैराना और कश्मीर से विस्थापित होते हुए हिन्दुओं का न तो दर्द दिखाई दिया न अधिकार। जिस प्रकार ये मानवभक्षी रोहिंग्या के मानवाधिकार के लिए लड़ रहे हैं, उसी प्रकार हिन्दुओं के अधिकारों के लिए भी लड़ते तो देश में समानाधिकार कायम हो पाता। पर इस प्रकार के दोहरे रवैये ने तो सवाल खड़ा कर दिया है कि क्या हिन्दुओं का मानवाधिकार नहीं होता या वो मानव की श्रेणी में ही नहीं आते। क्यों हमारे देश में कानून के द्वारा भी पक्षपात पूर्ण व्यवहार किया जाता है? हिन्दुओं के सभी अधिकार संविधान के अनुसार और मुस्लिम के अधिकार उनकी शरिया के अनुसार... जो देश पर फिर से राज करने का सपना देख रहे हैं वो भी देश के विकास के विषय में सोचने की बजाय मात्र एक वर्ग के तुष्टिकरण के विषय में सोचते हैं।
मालती मिश्रा

Tuesday, 26 September 2017

जिस प्रकार खरगोश से आसमान गिरने की खबर सुनकर जंगल के सभी जानवर उसके पीछे-पीछे भागने लगे वही हाल हमारे देश के बुद्धिजीवियों का भी है और मीडिया के तो कहने ही क्या.....
कोई भी खबर मिली नहीं कि हमारे देश के बुद्धिजीवी बिना सोचे समझे अपनी कलम का जादू दिखाना शुरू कर देते हैं, देश के जागरूक नागरिक का दिखावा करते हुए भूल जाते हैं कि सिक्के के दोनों पहलुओं को जानकर ही उनपर राय देना जागरूक नागरिक का कर्तव्य है।
मालती मिश्रा

Wednesday, 13 September 2017

हिंदी हमारी भाषा है.....

हिंदी हमारी भाषा है 
मेरी प्रथम अभिलाषा है,
भारत देश के गरिमा की 
यही परिष्कृत परिभाषा है।
हिंदी हमारी भाषा है..

जिसको अपनी भाषा का 
ज्ञान नहीं सम्मान नहीं,
बेड़ियों में बँधी हुई
उसकी हर प्रत्याशा है।
हिंदी हमारी भाषा है..

पर भाषा पर संस्कृति से
इसको कोई गुरेज़ नहीं,
हर भाषा-शब्द आकर इसमें
लवण सदृश घुल जाता है।
हिंदी हमारी भाषा है..

हिन्दुस्तान की जान है हिंदी
हम सबका अभिमान है हिंदी,
आओ सब मिल गर्व से बोलें
यही भविष्य की आशा है।
हिंदी हमारी भाषा है..

अपने-पराए के भेद-भाव का
इसमें कोई भाव नहीं
नुक्ता जो क़दमों में पड़ी हुई
उसको मस्तक पे सजाता है।
हिंदी हमारी भाषा है..

सबको संग ले चलने वाली
क्षेत्रीय भाषाओं में घुलने वाली
देश का हर भाषा-भाषी
इससे खुद जुड़ जाता है।
हिंदी हमारी भाषा है..
मालती मिश्रा