Search This Blog

Tuesday, 18 April 2017

अच्छाई और सच्चाई के मुकाबले बुराई और झूठ की संख्या बहुत अधिक होती है। इसका साक्षात्कार तो बार-बार होता रहता है। हम देश में सुरक्षित रहकर स्वतंत्रता पूर्वक अपना जीवन जीते हैं तो हमें अभिव्यक्ति की आज़ादी, सहिष्णुता-असहिष्णुता, दलित-अधिकार, अल्पसंख्यक आदि सबकुछ दिखाई देता है, हम सभी विषयों पर खुलकर चर्चा करते हैं या यूँ कहूँ कि बिना समझे अपना मुँह खोलते हैं। हमारे बोल देश-विरोधी हैं या समाज विरोधी इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। परंतु ऐसे ही लोगों को पकड़ कर सरहद पर खड़ा कर देना चाहिए जो सेना के मुकाबले विद्रोहियों, देशद्रोहियों के अधिकारों की पैरवी करते हुए मानवधिकार का हवाला देते हैं।
जब तपती धूप और शरीर को जलाती लू में खुले आसमान के नीचे खड़े होंगे, जब सर्द बर्फीली हवाएँ शरीर को छेदेंगी, जब वर्षा की धार पैर नहीं टिकने देगी.... तब इन्हें समझ आएगा कि एक सैनिक की ड्यूटी कैसी होती है, तब इन्हें सहिष्णुता-असहिष्णुता, दलित-अधिकार, अल्पसंख्यक और मानवाधिकार आदि के नाम भी याद नहीं आएँगे। गर्मी में ए०सी० की ठंडक, सर्दी में रूम हीटर की गर्मी और बरसात में अपने बंगले की मजबूत छत इन सब राजसी ठाट-बाट में रहकर देश-दुनिया की चर्चा करना हर किसी के लिए आसान होता है परंतु हम मानव प्राणियों में सर्वश्रेष्ठ होकर भी एक पशु जितनी समझ भी नहीं रख पाए। एक पशु भी जिसकी रोटी खाता है, जिसकी शरण में रहता है उस पर न भौंकता है और न ही उसे किसी प्रकार का नुकसान पहुँचाने का प्रयास करता है। परंतु मानव विशेषकर भारत के नागरिक जिन सैनिकों, जिन सुरक्षा बलों की सुरक्षा के साए में आजा़दी की सांस लेते हैं, जिनकी सुरक्षा में रहकर बेफिक्री की नींद सोते हैं, उन्हीं पर पत्थर बरसाते हैं,उन्हीं का अपमान करते हैं और वो भी किस लिए? चंद रूपयों के लालच में। इससे तो यही सिद्ध होता है कि इन्हें आजाद रखने की बजाय यदि बंधक बनाकर रखा जाता और रोज इनके मुँह पर कागज के चंद टुकड़े फेंके जाते तो शायद ये ज्यादा वफादारी दिखाते।
सोने पर सुहागा तो यह हुआ कि जो लोग एक अखलाक के मरने पर पूरे विश्व में असहिष्णुता का विधवा विलाप कर रहे थे, देश को बदनाम कर रहे थे, अवॉर्ड वापसी की नौटंकी कर रहे थे उन्हें इन आततायियों के पत्थर और इनका जवान (सुरक्षा कर्मी)को लात मारना दिखाई नहीं पड़ा, जिन लोगों ने देशद्रोह का नारा लगाने वाले उमर खालिद और कन्हैया को गोद लेकर कोर्ट में उनको बेगुनाह साबित करने के लिए बड़े-बड़े वकील खड़े कर दिए उन लोगों को सैनिकों का अपमान दिखाई नहीं देता, बस यदि कभी कुछ दिखाई देता है तो सिर्फ ये कि मौजूदा सरकार को किस प्रकार अपराधी के कटघरे में खड़ा करें...
यदि कश्मीरी आतताई पत्थर मारते हैं तो ये कहेंगे कि सरकार क्या कर रही है? और यदि ये आतताई पकड़ लिए जायँ तो यही राजनीति के प्यादे कहते हैं कि सरकार मानवाधिकार का हनन कर रही है, बेचारे बच्चों पर जुर्म कर रही है। मैं ही नही देश की जनता भी यही जानना चाहती है कि जब यही बेचारे बच्चे पत्थर मार रहे थे तब आप लोग किस बिल में मुँह छिपाकर बैठे थे या आप लोगों की नजर में क्या सैनिकों और सुरक्षा बलों का मानवाधिकार नहीं होता, क्यों उनका दर्द नहीं दिखता चंद जयचंदों को क्यों सिर्फ उन लोगों का मानवाधिकार दिखाई देता है जिनमें मानवता नाम की चीज नही होती।
मैं भी सरकार से कुछ अपेक्षाएँ रखती हूँ और चाहती हूँ कि ऐसे पत्रकारों, नेताओं, समाज के ठेकेदारों, बुद्धिजीवियों पर शिकंजा कसे जो इस प्रकार के आततायियों को बेचारा बताकर उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करना चाहते हैं। निःसंदेह ऐसे-ऐसे तथ्य सामने आएँगे जिससे ये स्पष्ट हो जाएगा कि ये लोग हमेशा खुलकर देशद्रोहियों का ही साथ क्यों देते हैं। सेना पर पत्थर फेंकना हो, उन पर आक्रमण हो उस समय बहुत से बुद्धिजीवी और अधिकतर पत्रकारों की ऐसी चुप्पी देखने को मिलती है मानों कहीं कुछ हुआ ही न हो और जैसे ही उन पत्थर बाजों में से कोई पकड़ा जाता है ये सभी अपने-अपने खोल उतारकर मैदान में आ डटते हैं ये सिद्ध करने के लिए कि पत्थर बाज और आततायी मासूम हैं और सेना उनपर जुर्म कर रही है। पत्थर बाजों का मनोबल बढ़ाने वाले सिर्फ पाकिस्तान में नहीं उनमें से बहुत से तो यहीं दिल्ली में बैठकर ही सारी नौटंकी का क्रियान्वयन करते हैं, हाथ बेशक किसी के भी हों पत्थर पकड़ाने का कार्य तो वही करते हैं जो सरकार को असक्षम साबित करना चाहते हैं। पत्थर बाजों के सूत्रधारों की गर्दन पकड़ी जाए और कोई नरमी न बरतते हुए पत्थर के बदले गोलियाँ दागी जाएँ तो अपने आप सेना का मान बढ़ेगा और आततायियों के हौसले पस्त होंगे। हाथों में पत्थर पकड़ने और जवान पर लात मारने या अपमान करने वालों को पहले से पता हो कि वो किसी भी क्षण सैनिक की गोली का शिकार हो सकता है तो वो कभी पत्थर नहीं उठाएगा।
मालती मिश्रा


9 comments:

  1. विचारशील प्रेरक प्रस्तुति

    ReplyDelete
    Replies
    1. कविता रावत जी हौसला आफ़जाई के लिए शुक्रिया।

      Delete
  2. हिन्दी ब्लॉगिंग में आपका लेखन अपने चिन्ह छोड़ने में कामयाब है , आप लिख रही हैं क्योंकि आपके पास भावनाएं और मजबूत अभिव्यक्ति है , इस आत्म अभिव्यक्ति से जो संतुष्टि मिलेगी वह सैकड़ों तालियों से अधिक होगी !
    मानती हैं न ?
    मंगलकामनाएं आपको !
    #हिन्दी_ब्लॉगिंग

    ReplyDelete
    Replies
    1. जी आभार आपका ब्लॉग पर आने और अपनी प्रतिक्रिया से अवगत कराने के लिए।

      Delete
  3. वास्तव में इस देश का लोकतंत्र ही उलझा हुआ है. उम्मीद थी की मोदी घटिया लोकतान्त्रिक संविधानों और इसके प्रतीक कृत्रिम गांधी नामों से देश को अलग करने का प्रयास करेंगे. पर ऐसा हो नहीं रहा. सैनिकों की मौत और हिन्दू विचारधारा के समर्थकों को धमकाने तथा मुस्लिम आतंकवाद और नौटंकियों पर चुप्पी साधने के कारण मोदी भी एक घटिया देश (भूखंड नहीं सामाजिक तानाबाना) में महान बनने की सोचने लगे हैं. बहुत निराशा है

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. आपकी लिखी रचना  "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 2 अगस्त 2017 को लिंक की गई है.................. http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
  6. विचारणीय.....
    लाजवाब प्रेरक प्रस्तुति...

    ReplyDelete