Search This Blog

Saturday, 24 March 2018


मैं ढलते सूरज की लाली
कुछ पल का अस्तित्व है मेरा
फिर तो लंबी रात है काली
सब पर एक सा प्यार लुटाकर
अपने रंग में रंग दूँ धरा को
पत्ता पत्ता डाली डाली
मैं ढलते...

जानूँ अपनी नियति का लेखा
कुछ पल में मैं ढल जाऊँगी
सौंदर्य बिखेरा अपनी हर शय
सबके मन को मैं लुभाऊँगी
नहीं किसी से बैर निकाली
फिर भी मेरा दामन खाली
मैं ढलते....
#मालतीमिश्रा

No comments:

Post a Comment