Search This Blog

Tuesday, 3 November 2015

                                     

अपने ही देश मे गर पाना है सम्मान 
छोड़-छाड़कर धर्म अपना सब बन जाओ खान
शाकाहारी भोजन करना मानवता का अपमान
गौ माता का वध करना घर्मनिरपेक्षता का प्रमाण
अपमान का हलाहल विष चुपचाप पी जा नादान
चोटें खाकर भी घातक का सदा बढ़ाता जा तू मान
छोड़-छाड़कर धर्म अपना सब बन जाओ खान



No comments:

Post a Comment