Search This Blog

Wednesday, 6 July 2016

बेटी

बेटी को पराया कहने वालों
प्रकृति की अनुपम कृति यह प्यारी है,
जिस खुदा ने फूँके प्राण हैं तुमने
उसने यह अनमोल छवि सँवारी है।
नर को केवल तन दिया है पर
नारी में अपनी कला उतारी है,
तन-मन की कोमल यह कान्ता
भावों की अति बलशाली है।
जान सके इसके अन्तर्मन को
ऐसा न कोई बुद्धिशाली है,
भार्या यह अति कामुक सी
सुता बन यह सुकुमारी है।
स्नेह छलकता भ्राता पर है
पत्नी बन सबकुछ वारी है,
पा सकोगे इस सम संपत्ति कोई
जो पराया धन कह गुहारी है।

कैसी अनोखी तुलना है यह.......

इक कोख से जन्में दो संतान
एक पराया धन दूजा कुल की शान!!
कुल दीपक की प्रचंडता से जब-जब
लगा दहकने कुल की शान,
अपनी स्नेहमय शीतलता से इसने तब
कुल की शान सँवारी है।
बेटी को पराया....

मालती मिश्रा 







No comments:

Post a Comment