Search This Blog

Sunday, 24 July 2016

चाँद का सफर

चंदा तू क्यों भटक रहा
अकेला इस नीरव अंधियारे में
क्या चाँदनी है तूझसे रूठ गई
तू ढूँढ़े उसे जग के गलियारे में
तुझ संग तेरे संगी साथी हैं तारे 
जो तुझ संग फिरते मारे-मारे 
मैं अकेली संगी न साथी 
ढूँढ़ू खुद को बिन दिया बाती
उस जग में खुद को खो चुकी हूँ
जहाँ ढूँढ़े तू अपना साथी
कैसी अनोखी राह है मेरी 
व्यथा अपनी किसी से न कह पाती 
हे चंदा! कितनी समानता है हममें
तू भी अकेला हम भी अकेले 
फिर भी कितने विषम हैं दोनों
जग तुझको चाहे और हमको झेले 
अपनी कुछ खूबी मुझे भी दे दे 
ज्यों दाग के होते हुए भी तू  जग में
सबका प्रिय बना अकेले-अकेले 

मालती मिश्रा 

5 comments:

  1. सुन्दर कविता

    ReplyDelete
    Replies
    1. gyandrashta जी बहुत-बहुत आभार।

      Delete
  2. चाँद जैसा कोई हो भी तो नहीं सकता ... पर सबके अकेलेपन का साथी भी तो वही तो है ...
    बहुत भावपूर्ण रचना है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद Digamber Naswa जी आपकी अनमोल और उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया के लिए।

      Delete
    2. धन्यवाद Digamber Naswa जी आपकी अनमोल और उत्साहवर्धक प्रतिक्रिया के लिए।

      Delete