Search This Blog

Sunday, 13 August 2017

गरिमामयी पद के गरिमाहीन पदाधिकारी

 देश के दूसरे सर्वोच्च पद पर आसीन पदाधिकारी उप-राष्ट्रपति मो० हामिद अंसारी ने पद छोड़ते समय जो कुछ भी कहा नि:संदेह उससे राष्टृवादी लोगों के हृदय को ठेस लगी होगी। उन्होंने अभिव्यक्ति की आजादी के नाम पर फिर ऐसा बयान दिया जो उनके पद की गरिमा को धूमिल करता है। उनके कथनानुसार हमारे देश में आज अल्पसंख्यक असुरक्षित है। पिछले दस वर्षों से इस पद पर बने रहने के बावजूद कई बार विवादित बयान देने के बावजूद, देश के राष्ट्रध्वज को सम्मान न देने के बावजूद वह आज तक उसी पद पर उतना ही सम्मान पाते रहे हैं फिर भी उन्हें अल्पसंख्यक यानी अपने धर्म के लोग डरे हुए नजर आ रहे हैं। कमाल की बात तो यह है कि वह अल्पसंख्यक सिर्फ मुस्लिम समुदाय के लोगों को ही मानते हैं, जैन, पारसी, ईसाई आदि उन्हें अल्पसंख्यक नहीं लगते। उनकी दृष्टि में देश में इतनी असहिष्णुता थी फिर भी वह अपने पद अपने अधिकारों के मोह का त्याग नहीं कर पाए, यदि वास्तव में उन्हें अपने समुदाय के लोग डरे सहमें नजर आ रहे थे और वह पदासीन रहते हुए कुछ नहीं कर सकते थे तो क्यों नहीं अपने पद से त्यागपत्र दे कर अपनी आवाज उठाई? पर उनका अब ऐसा बयान देना एक अलग ही खेल दर्शाता है। अब वह समुदाय विशेष को डराकर अपना उल्लू सीधा करना चाहते हैं। जिस देश में रहते हैं, जिस देश का नमक खाते हैं और पूरी सुरक्षा और सुख-सुविधाओं का भोग करते हैं उसी देश के राष्ट्रध्वज और राष्ट्रगान को सम्मान नहीं देते फिर भी वही देश इन्हें सिर आँखों पर बिठाता है; फिर भी इनका अस्तित्व खतरे में है! फिर भी देश में असहिष्णुता है!!
क्या ऐसे बोल बोल कर ये स्वयं देश के लोगों में एक समुदाय विशेष के लिए जहर नहीं घोल रहे? जो लोग आपस में जाति-धर्म को भूल कर भाईचारे की भावना से रहते हैं उनमें ये परस्पर भेदभाव और असुरक्षा की भावना को जन्म दे रहे हैं।
समझ नहीं आता कि ऐसी विचारधारा के व्यक्ति को ऐसे उज्ज्वल पद पर क्या सिर्फ पद की गरिमा को धूमिल करने के लिए बैठाया गया या फिर यह कहूँ कि इन्हें भी सिर्फ पूर्वजों के नाम उनके कार्यों का सहारा मिला और इन्होंने भी नेहरू परिवार की तरह सिर्फ पूर्वजों के नाम के सहारे देशहित की आड़ में सिर्फ अपना स्वार्थ सिद्ध किया। आज सिर्फ एक ही प्रश्न बार-बार समक्ष होता है कि कब तक पूर्वजों के स्वतंत्रता आंदोलन में सहयोग देने के नाम पर ये वंशज देश को खोखला करते रहेंगे और हम इमोशनल फ़ूल बनते रहेंगे। किस शास्त्र में लिखा है कि यदि दादा-परदादा देशभक्त हों तो पोते-परपोते देशद्रोही नहीं हो सकते?
आखिर कब तक यह देश गरिमामयी पदों के गरिमाहीन पदाधिकारियों के बोझ तले दबा रहेगा?  कब तक??
मालती मिश्रा

1 comment:

  1. नाम वही, काम वही लेकिन हमारा पता बदल गया है। आदरणीय ब्लॉगर आपने अपने ब्लॉग पर iBlogger का सूची प्रदर्शक लगाया हुआ है कृपया उसे यहां दिए गये लिंक पर जाकर नया कोड लगा लें ताकि आप हमारे साथ जुड़ें रहे।
    इस लिंक पर जाएं :::::
    http://www.iblogger.prachidigital.in/p/best-hindi-poem-blogs.html

    ReplyDelete