Search This Blog

Tuesday, 24 April 2018

आतंक का हाथ आंदोलन के साथ...

हमने न किया देश हित
तुमको भी न करने देंगे
नव विकास का मूल मंत्र
जनता को न पढ़ने देंगे

जो वस्तु हमारी हो न सके
न वो हाथ किसी के लगने देंगे
जी-तोड़ करो तुम देशहित
हम देश को उधर न तकने देंगे

अच्छाइयों की उजली किरणों से
बुराइयों की कालिमा न छँटने देंगे
खुद जुर्म का दामन थाम के हम
जुर्म के खिलाफ धरने देंगे

जो आग लगाई है हमने
न वो किसी ठौर बुझने देंगे
पाने को मनचाहा मुकाम
हम पाँव रिपु के न उखड़ने देंगे

गद्दार नजर आते जो तुम्हें
वो शक्ति हमारी सेना के
ये शक्ति न हम घटने देंगे
आतंक न हम मिटने देंगे।
#मालतीमिश्रा

6 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 26.04.2018 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2952 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार दिलबाग विर्क जी

      Delete
  2. तीक्ष्ण कटाक्ष
    सुंदर रचना.
    उम्दा लेखन कि शुभकामनायें


    मेरे ब्लॉग पर भी पधारे कभी....

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेह आभार रोहिताश जी।
      जरूर आपका ब्लॉग भी पढूँगी।🙏

      Delete
  3. Replies
    1. गगन जी हार्दिक आभार। 🙏🙏

      Delete