Search This Blog

Thursday, 3 May 2018

सरस्वती वंदना

वीणापाणि मात मेरी करती आराधना मैं
आन बसो हिय मेरे ज्ञान भर दीजिए।।

समर्पित कर रही श्रद्धा के सुमन मात
अरज मेरी ये आप सवीकार कीजिए।।

बन कृपा बरसो माँ लेखनी विराजो मेरे
अविरल ज्ञान गंगा बन बहा कीजिए।।

यश गाथा गाय रही तुमको बुलाय रही
सुनो मात अरजी न देर अब कीजिए।।
#मालतीमिश्रा

11 comments:

  1. जय माँ सरस्वती
    उम्दा रचना है

    स्वागत है जी आपका यहाँ खैर 

    ब्लॉग अच्छा लेगे तो मित्रता की शुरुवात भी कीजियेगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद रोहितास जी, आपका ब्लॉग देखा अच्छा लगा।

      Delete
  2. बहुत सुंदर वंदना मां सरस्वती की अंतर से निकली आवाज।
    नमन मा वीणावादिनी।

    ReplyDelete
    Replies
    1. हृदयतल से आभार मीता🙏

      Delete
  3. माँ शारदे को कोटि - कोटि नमन !!!सुंदर ब्जव्पूर्ण वंदन माँ का | हार्दिक शुभकामनाये !!!!!!!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत बहुत आभार रेनू जी

      Delete
  4. बहुत सुंदर आराधना माँ शारदे की आदरणिया अनुजा

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत आभार भाई सा

      Delete
  5. बहुत सुंदर
    माँ शारदे की कृपा बनी रहे

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत आभार लोकेश जी

      Delete
  6. वीणा वादिनी के चरणों में वंदन है ये रचना ...
    माँ की कृपा बनी रहे ...

    ReplyDelete