Search This Blog

Tuesday, 22 May 2018

पचास साल का युवा गर दिखाए राह तो
बुद्धि का विकास कब होगा इस देश में

जनता समाज सब भ्रम में ही फँस रहे
हर पल विष घुल रहा परिवेश में।।

रोज नए मुद्दे बनें नई ही कहानी बने
भक्षक ही घूम रहे रक्षक के वेश में।।

उचित अनुचित का खयाल बिसरा दिया
चापलूस चाटुकार मिले अभिषेक में।।

4 comments:

  1. सही सही कटाक्ष है मीता कलम की धार बढती जा रही है ।
    सत्य का दर्पण, अप्रतिम।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी प्रतिक्रिया हौसला बढ़ाती है मीता, आभार स्नेह बनाए रखने के लिए🙏🙏

      Delete
  2. गहरा कटाक्ष है आज की राजनीति पर ... और सटीक लिखा है ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. उत्साहवर्धन के लिए बहुत-बहुत आभार आदरणीय🙏🙏🙏

      Delete