Search This Blog

Friday, 11 May 2018

भक्ति जगाय दीजिए

शारदे की पूजा करूँ काम नहीं दूजा करूँ
भक्ति ऐसी मेरे हिय में जगाय दीजिए।।

साथ दे जो हर घड़ी कभी न अकेला छोड़े
धर्म पथ पर कोई वो सहाय दीजिए।।

लेखनी का शस्त्र धरूँ अशिक्षा पे वार करूँ।
ज्ञान दीप मेरे हिय में जलाय दीजिए।।

शिक्षा जो ग्रहण किया सभी में मैं बाँट सकूँ
मानव का धर्म हमें बतलाय दीजीए।।
#मालतीमिश्रा

7 comments:

  1. वाह !!!बहुत खूबसूरत।

    ReplyDelete
    Replies
    1. नीतू जी सादर आभार
      मातृ दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएँ।

      Delete
  2. बहुत सुंदर स्तुति सदा मां का वरदहस्त आप पर रहे।

    ReplyDelete
    Replies
    1. मीता स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिए बहुत-बहुत आभार

      Delete
  3. Replies
    1. This comment has been removed by the author.

      Delete