Search This Blog

Tuesday, 27 October 2015

दोस्त

                 
सितारों की भीड़ से चुराया है आपको,
दिल से अपना दोस्त बनाया है आपको |
इस दिल को कभी टूटने न देंगे,
क्योंकि इसी दिल में छिपाया है आपको ||

No comments:

Post a Comment