Search This Blog

Wednesday, 27 January 2016

रामचंद्र कह गए सिया से



राम चंद्र कह गए सिया से 
ऐसा कलयुग आएगा 
सत्य छिपेगा घरों के भीतर 
असत्य ही ढोल बजाएगा 
मेहनत करने वाला मानव 
हर चीज की तंगी झेलेगा 
चोर और भ्रष्टाचारी 
छप्पन भोग लगाएगा 
झूठ के भ्रम जाल में जन-जन
इस कदर फँस जाएगा
सच्चाई के पथगामी पर 
प्रतिक्षण आरोप लगाएगा 
मोहमाया के वशीभूत हो 
आँखों देखी मक्खी निगलेगा 
सत्य का गला घोंट के भइया
झूठ के पाँव पखेरेगा 
रामचंद्र कह गए सिया से 
ऐसा कलयुग आएगा
सच्चाई को रौंद के झूठ
चैन की बंसी बजाएगा..

मालती मिश्रा

3 comments:

  1. बहुत-बहुत धन्यवाद मधूलिका जी

    ReplyDelete
  2. बहुत-बहुत धन्यवाद मधूलिका जी

    ReplyDelete