Search This Blog

Wednesday, 11 May 2016

हकदार वही है

पथ के काँटे चुन ले जो
फूलों का हकदार वही है,
तोड़ पहाड़ बहा दे झरना
उसके लिए मृदु धार बही है 
धारा के विपरीत बहा जो 
नई कहानी का रचनाकार वही है
प्यास बुझाए जो हर प्राणी के 
पनघट का सरकार वही है
तूफानों से लड़-लड़कर
राह नई बना ले जो
नई ऊँचाई, नए कीर्ति की
यशगाथा का हकदार वही है। 

मालती मिश्रा

9 comments:

  1. अतिसुन्दर अभिव्यक्ति......💐💐

    ReplyDelete
  2. अतिसुन्दर अभिव्यक्ति......💐💐

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग पर आने और आपकी स्नेहिल प्रतिक्रिया के लिए बहुत-बहुत आभार सत्यकाम गुप्ता जी

      Delete
  3. Amazing poetry Maltiji! Two thumbs up!

    ReplyDelete
    Replies
    1. गीतांजलि मित्तल जी बहुत-बहुत आभार,नमन आपका

      Delete
    2. गीतांजलि मित्तल जी बहुत-बहुत आभार,नमन आपका

      Delete
  4. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार 14 जुलाई 2016 को में शामिल किया गया है।
    http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप सादर आमत्रित है ......धन्यवाद !

    ReplyDelete
    Replies
    1. संजय भास्कर जी बहुत-बहुत धन्यवाद मेरी रचना को शामिल करने और मुझे सूचित करने के लिए।

      Delete
    2. संजय भास्कर जी बहुत-बहुत धन्यवाद मेरी रचना को शामिल करने और मुझे सूचित करने के लिए।

      Delete