Search This Blog

Saturday, 30 April 2016

मजदूर

कॉलोनी के बड़े से गेट के बाहर
जो लम्बी सी सड़क जा रही है 
थोड़ा सा आगे चलकर 
उसी सड़क की पगडंडी पर
लम्बी सी कतारों में 
कुछ बैठे तो कुछ खड़े मिलेंगे
सूरज के साथ ही निकल पड़ते हैं ये भी
अपने पूरे दिन के सफर पर
पास आकर रुकती है मोटर
पलक झपकते ही घेरा सबने
जरा भी देर न लगाई किसी ने 
क्या गजब की फुर्ती और चुस्ती
दिखाई उन जर्जर शरीरों ने
गाड़ी का दरवाजा खुला
सूट-बूट में एक साहब निकला
चेहरे पर रौब गर्दन तनी हुई
आपस में कुछ बातें हुईं 
और कतार में से कुछ को 
पता बताकर साहब चले गए
बाकी फिर अपने स्थान पर आ गए
पुनः प्रतीक्षा में रत
कोई आए और 
दो जून की रोटी का बंदोबस्त हो जाए

मालती मिश्रा

2 comments:

  1. हर शब्द अपनी दास्ताँ बयां कर रहा है आगे कुछ कहने की गुंजाईश ही कहाँ है बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
    Replies
    1. संजय जी बहुत-बहुत आभार आपकी टिप्पणी मेरे लिए अनमोल है।

      Delete