Search This Blog

Wednesday, 16 November 2016

क्यों व्यथित मेरा मन होता है

क्यों व्यथित मेरा मन होता है


कल्पना में उकेरा हुआ घटनाक्रम

पात्र भी जिसके पूर्ण काल्पनिक 
चित्रपटल पर देख नारी की व्यथा 
सखी क्यों मेरा हृदय रोता है
क्यों व्यथित.......


नहीं कोई सच्चाई जिसमें

महज अंकों में बँधा नाटक है
नारी पात्र की हर घटना को क्यों
मेरा दिल हर एक पल जीता है
क्यों व्यथित......


हर नारी की कथा एक सी

पुरुष सदा उसे छलता है
देख असहाय स्थिति में उसको
क्यों अश्रुधार कपोल भिगोता है
क्यों व्यथित........


जननी भार्या भगिनी और सुता

हर रूप में सिर्फ त्याग किया है
समाज के बदले रूप अनेकों पर
इनका अपना न कुछ होता है
क्यों व्यथित........
मालती मिश्रा

5 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार 17 नवम्बर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना को सम्मान देने व सूचित करने के लिए हृदयतल से आभार यशोदा जी।

      Delete
    2. मेरी रचना को सम्मान देने व सूचित करने के लिए हृदयतल से आभार यशोदा जी।

      Delete
  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 17.11.2016 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2529 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिलबाग जी मेरी रचना को शामिल करने तथा सूचित करने के लिए बहुत-बहुत आभार।

      Delete