Search This Blog

Thursday, 4 January 2018

क्या चाह अभी क्या कल होगी
नही पता मानव मन को
चंद घड़ी में जीवन के
हालात बदल जाते हैं
पल-पल मानव मन में
भाव बदलते रहते हैं
संग-संग चलने वालों के भी
ज़ज़्बात बदल जाते हैं।

जुड़े हुए होते हैं जिनसे
गहरे रिश्ते जीवन के
टूटी एक कड़ी कोई तो
रिश्तों से प्यार फिसल जाते हैं
स्वार्थ का बीज अंकुर होते ही
काली परछाई घिर आती
प्रेम संगीत गाती वीणा के
तार बदल जाते हैं।
#मालतीमिश्रा

4 comments:

  1. वाह बहुत गहरा और उम्दा ख्याल मीता।
    अप्रतिम।
    सुप्रभात।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत खुशी हुई आपको ब्लॉग पर देखकर मीता, आभार।
      सुप्रभात🙏

      Delete
  2. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना हमारे सोमवारीय विशेषांक २५ जून २०१८ के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  3. वाह!!बहुत खूबसूरत रचना ।

    ReplyDelete