Search This Blog

Friday, 11 March 2016

नही चाहिए कानून की पट्टी


अब कानून की आँखों से पट्टी हटा ही देना चाहिए
कानून को लोगों की आँखें पढ़ना भी आना चाहिए
कन्हैया सम गद्दारों की गद्दारी भी दिखना चाहिए
क्योंकि कानून के कुछ रखवाले कांग्रेसी 
तो कुछ पीमचिदंबरम् होते है
जिनके पापों का बोझ निर्भया जैसे ढोते हैं 
माना कि कानून के समक्ष सब एक बराबर होते हैं 
पर किसने कहा कि काले कोट में श्वेत हृदय ही होते हैं 
हमने तो कानून को व्यापार करते देखा है 
नोटों की हरी गड्डी पर काले कोट बिकते देखा है 

मालती मिश्रा

No comments:

Post a Comment