Search This Blog

Wednesday, 9 March 2016

न्यायालय जो भारत की संप्रभुता का संरक्षक है


न्यायालय जो लोकतंत्र की मर्यादा का रक्षक है 
न्यायालय जो भारत की संप्रभुता का संरक्षक है 
न्यायालय जो घावों पर औषधि का लेप लगाता है
 न्यायालय जो पीड़ित को सच्चा इंसाफ दिलाता है
उसी न्याय के मंदिर पर कीचड़ फेंका शैतानों ने 
ओवैसी ने जूता मारा थूक दिया केजरीवालों ने 
जिस मेमन के तार जुड़े थे पाकिस्तानी गलियों में 
जिस मेमन का दाम लगा था दाऊद की रंगरलियों में 
जो मेमन दहशत गर्दों का प्यारा राजदुलारा था 
जो मेमन मुंबई नगरी का कातिल था हत्यारा था 
उस मेमन की फाँसी को नाजायज बोला जाता है 
न्यायालय के निर्णय को मजहब से तौला जाता है 
लोमड़ियाँ भी मुँह में देखो घास दबाए बैठी हैं 
साँपों की औलादें अमृत कलश सजाए बैठी हैं 
सदा बाबरी पर रोए न बोले मथुरा काशी पर 
अफज़ल गुरु पर बोले न बोले सरबजीत की फाँसी पर
अफजल की सजाए मौत को जो हत्या बतलाते हैं 
संसद के हमलावर को जो शहीद कह बुलाते हैं 
खुद के राष्ट्रद्रोह को विचाराभिव्यक्ति बता करके 
मातृभूमि के टुकड़े करने का वो स्वप्न सजाते हैं 
कौए का अंडा इनको अखरोट दिखाई देता है 
भारत की हर परंपरा में खोट दिखाई देता है 
खून मुगलिया जिनके अंदर उनका गौरव गान नहीं 
बजरंगी को छोड़ो ये तो ढंग के भाई जान नहीं 

अज्ञात (copied)

11 comments:

  1. Ab to kanoon Ki murti ko ankhon se Patti hta hi deni chahiye..aise hi bel milti rahegi.India ka majak banta rahega.

    ReplyDelete
  2. मालती जी कानुन को एक दिन एेसा करना ही होगा

    ReplyDelete
  3. वाह बहुत ही बढ़ियां

    ReplyDelete
  4. योगेंद्र जी,जी०एस०परमार जी ब्लॉग पर आने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद, आशा करती हूँ कि आगे भी इसीप्रकार उत्साहवर्धन करते रहेंगे

    ReplyDelete
  5. योगेंद्र जी,जी०एस०परमार जी ब्लॉग पर आने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद, आशा करती हूँ कि आगे भी इसीप्रकार उत्साहवर्धन करते रहेंगे

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया मालती जी.

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया मालती जी.

    ReplyDelete
  8. धन्यवाद मधूलिका जी

    ReplyDelete
  9. धन्यवाद मधूलिका जी

    ReplyDelete