Search This Blog

Wednesday, 4 January 2017


ऐ जिंदगी पहचान करा दे मुझसे तू मेरी
खुद को ढूँढ़ते एक उम्र कटी जाती है।

मैं कौन हूँ, क्या हूँ, मेरा अस्तित्व क्या है खुदाया
खोजने के जद्दो-ज़हद में खुद को मिटाए जाती हूँ।

रिश्तों के चेहरों में ढका वजूद मेरा इस कदर
आईने में अपना अक्श भी अंजाना नजर आता है।

पहचान अपनी पाने की कोशिशें जो की मैंने या रब
जमींदोज़ मुझे करने को ज़माना नजर आता है।
मालती मिश्रा

6 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 05-01-2017 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2576 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत आभार दिलबाग विर्क जी

      Delete
    2. बहुत-बहुत आभार दिलबाग विर्क जी

      Delete
  2. Bhut achhi kavita likha hai apne, is kavita ko book ka roop dene ke liye hme visit kre:https://www.onlinegatha.com/

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग पर पधारने के लिए धन्यवाद, पुस्तक प्रकाशन हेतु अवश्य संपर्क करूँगी।

      Delete
    2. ब्लॉग पर पधारने के लिए धन्यवाद, पुस्तक प्रकाशन हेतु अवश्य संपर्क करूँगी।

      Delete