Search This Blog

Saturday, 28 January 2017

क्या रखा है जीने में

भावों का सागर बहता है
मेरे सीने में
मन करता है छोड़ दूँ दुनिया
क्या रखा है जीने में

सागर में अगणित भावों का
मानों यूँ तूफान उठा है
आपस में टकराती लहरें तत्पर
हों अस्तित्व मिटाने में

दिल और दिमाग के मध्य
मानो इक प्रतिस्पर्धा हो
एक दूजे के कष्टों के हलाहल
उधत हों मानो पीने में

भावों की अत्याधिकता भी
करती है शून्य मनोभावों को
प्यासा नदिया तीरे जाकर भी
असक्षम होता जीने में।
मालती मिश्रा

No comments:

Post a Comment