Search This Blog

Saturday, 7 January 2017

ऐ जिंदगी पहचान करा दे मुझसे तू मेरी


चाहे-अनचाहे गर बिगड़ जाए दास्ताँ जो मेरी 
जीवन सारा अफ़वाहों का बाज़ार बना जाता है

खुदा ने भेजा औरों की तरह जहाँ में मुझको
क़ायदा-ए-ज़हाँ ने असीर बना डाला है

खुदा की अल हूँ या क़ज़ा है मेरा ये क़फ़स
गर्दिशे-सवाल में क़रार खोया जाता है।

कुछ काम किए खास जो जमाने की निगाहों में 
सारा जीवन अब्तरे-अफ़साना नज़र आता है।

ख़लिश सी उठती सीने में जब देखती हूँ आइना
उम्र गुजारा तलाश में जिसकी वो बेगाना नजर आता है।

मालती मिश्रा


असीर- -कैदी
अल - कला
क़ज़ा- ईश्वरीय दंड
क़फ़स- शरीर/पिंजर
गर्दिशे-सवाल- सवालों का भँवर
करार- चैन
अब्तरे-अफ़साना-बिखरी हुई कहानी

3 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत आभार सुधा जी।

      Delete
    2. बहुत-बहुत आभार सुधा जी।

      Delete