Search This Blog

Friday, 30 December 2016

२०१६ तुम बहुत याद आओगे.....


२०१६ तुम बहुत याद आओगे.....

बीते हुए अनमोल वर्षों की तरह
२०१६ तुम भी मेरे जीवन में आए
कई खट्टी मीठी सी सौगातें लेकर 
मेरे जीवन का महत्वपूर्ण अंग 
बन छाए
कई नए व्यक्तित्व जुड़े इस साल में
कितनों ने अपने वर्चस्व जमाए
कुछ मिलके राह में 
कुछ कदम चले साथ
और फिर अपने अलग नए
रास्ते बनाए
कुछ जो वर्षों से थे अपने साथ
तुम्हारे साथ वो भी बिछड़ते 
नजर आए
कुछ जो थे निपट अंजान
तुम उनकी मित्रता की सौगात 
ले आए
जीवन की कई दुर्गम 
टेढ़ी-मेढ़ी राहों पर
चलते हुए जब न था कोई 
साथी
ऐसे तन्हा पलों में भी 
तुम ही साथ मेरे नजर आए
वक्त कैसा भी हो
खुशियों से भरा 
या दुखों से लबरेज
तुम सदा निष्काम निरापद
एक अच्छे और 
सच्चे मित्र की भाँति
हाथ थामे साथ चलते चले आए
वक्त का पहिया फिर से घूमा
आज तुम हमसे विदा ले रहे हो
सदा के लिए तुम जुदा हो रहे हो
भले ही साल-दर-साल तुम 
दूर होते जाओगे
पर जीवन के एक अभिन्न
अंग की भाँति
ताउम्र तुम 
बहुत याद आओगे 
साल २०१६ 
जुदा होकर भी तुम न
जुदा हो पाओगे
जीवन का हिस्सा बन 
हमारी यादों में अपनी 
सुगंध बिखराओगे
साल २०१६ तुम 
बहुत याद आओगे।
मालती मिश्रा
चित्र साभार गूगल से

3 comments:

  1. सुन्दर रचना के साथ नये साल का आग़ाज । नव वर्ष की मंगलकामनाएं ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुशील कुमार जोशी जी बहुत-बहुत आभार, आपको भी नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ।

      Delete
    2. सुशील कुमार जोशी जी बहुत-बहुत आभार, आपको भी नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ।

      Delete