Search This Blog

Wednesday, 22 August 2018

सावन आया

घिरी चारों दिशाओं में
घटाएँ आज सावन की
सखियाँ गाती हैं कजरी
राग पिया के आवन की

कृषक का बस यही सपना
बदरी झूम-झूम बरसे
प्यास धरती कि बुझ जाए
खेत-खलिहान सब सरसे।।

तपन धरती कि मिट जाए
सखी मधुमास है आया
कजरी और झूले संग
विपदा केरल की लाया।।

मालती मिश्रा 'मयंती'✍️

12 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 23.8.2018 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3072 में दिया जाएगा

    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद आ० विर्क जी

      Delete
  2. या खुदा तेरा ये करिश्मा
    कहीं धूप कहीं छाया।

    पश्चमी राजस्थान में सुखा
    और केरल में भयंकर बाढ।

    सुंदर रचना।
    समसामयिक का समावेश

    ReplyDelete
    Replies
    1. अपने विचारों से अवगत कराने के लिए सादर आभार रोहिताश जी

      Delete
  3. आया तो है पर झूमता-गाता नहीं, तांडव मचाता

    ReplyDelete
    Replies
    1. ब्लॉग पर आपका स्वागत है गगन जी

      Delete
  4. अलग-अलग रूप सावन के
    बहुत अच्छी सामयिक रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. सादर आभार कविता जी

      Delete
  5. Such a great line we are Online publisher India invite all author to publish book with us

    ReplyDelete
  6. कृषक का बस यही सपना
    बदरी झूम-झूम बरसे
    प्यास धरती कि बुझ जाए
    खेत-खलिहान सब सरसे।।
    .
    बेहद ख़ूबसूरत

    ReplyDelete