Search This Blog

Thursday, 25 February 2016

राष्ट्रद्रोह आंदोलन की चक्की में देश पिसता है


इतनी शक्ति कांग्रेस ने गर ब्रिटिश काल मे दिखाई होती,
देश को आजाद कराने में फिर सौ साल नहीं गँवाई होती|
सत्ता की लालसा प्रबल इतनी है हित अहित न दिखता है,
राष्ट्रद्रोह और आंदोलन की चक्की में देश पिसता है |
देशद्रोह के नारे को वैचारिक अभिव्यक्ति बताते हैं,
देशभक्ति का दम भरने वाले संविधान का मजाक बनाते हैं |
सत्य पर पर्दा पड़ा रहे हर संभव जुगत लगाते हैं,   
जनहित का प्रपंच रचकर आंदोलन में देश जलाते हैं |
आरक्षण का लॉलीपॉप दिखा अयोग्यता की जड़ें फैलाते हैं, 
भारत माँ के पुत्रों से ही उनका दामन कुचलवाते हैं |
लाख करो कोशिश तुम दुष्टों जनता अब है जाग रही, 
तुम्हारी हर खल चेष्टाओं को अपने स्तर पर भाँप रही| 
हर घर से अफजल पैदा करो इतनी तुम्हारी औकात नहीं, 
अफज़ल संग तुमको धूल न चटा दें तो हम भारत माँ के लाल नहीं ||
मालती मिश्रा...

3 comments: