Search This Blog

Monday, 15 August 2016

भारत की जय बोलेंगे

आजादी की बधाई देकर
हर व्यक्ति हर्षित होता है
हम स्वतंत्र देश के वासी हैं
यह सोचते गर्वित होता है
पर आजादी की कीमत क्या
कोई जाकर उनसे पूछे
जिसने इसको पाने के लिए
अपने लहू से धरती सींचे
होते न अगर सुखदेव भगत सिंह
तो लाखों शेर न जगते
चंद्रशेखर आजाद न होते तो 
हम कपड़े बुनते रहते
आज तिरंगा फहराने से 
पहले जरा समझ लो
आजादी के लिए चुकाई 
कीमत जरा परख लो
नहीं लजाओ आजादी के 
मस्तानों की कुर्बानी
छोड़ जाति-धर्म के झगड़े
सबकी एक हो बानी
बंद हो चुके हृदय द्वार को 
एक-दूजे के लिए खोलेंगे 
एक स्वर में मिलकर हम
अब भारत की जय बोलेंगे।।
जय हिंद.....

3 comments:

  1. ये भी सही है जय हिंद जय भारत

    मुल्क जात पात में बाँट रहा है
    विदेशी तलवों को चाट रहा है
    कैसे कह दूँ के आजाद हूँ मै
    दीमक भीतर से काट रहा है
    

    ReplyDelete
    Replies
    1. वाह भाई आपकी यह प्रतिक्रिया देशप्रेम के रंग में रही हुई खुशबू चहुँओर बिखेर रही
      जाति-धर्म के नाम पर बँटे हुए सपूतों की अंतर आत्मा को झंझोड़ रही
      बहुत ही सुंदर, जय भारत

      Delete
    2. वाह भाई आपकी यह प्रतिक्रिया देशप्रेम के रंग में रही हुई खुशबू चहुँओर बिखेर रही
      जाति-धर्म के नाम पर बँटे हुए सपूतों की अंतर आत्मा को झंझोड़ रही
      बहुत ही सुंदर, जय भारत

      Delete