Search This Blog

Sunday, 21 August 2016

नमन करो उस धीरव्रती को

जिसका पूरा विश्व आज बना दीवाना
      उस लोकप्रिय जनमानस प्रिय पर
            देश के शत्रु साधते निशाना

चलता जिसके पीछे इक युग
       जिसने रचा इतिहास नया
              उसके कथ्य अकथ्य भाव का
                     लोहा सबने माना
                           ऐसे युगदृष्टा महाविभूति पर
                                  कायरता कसती ताना

वह सुप्तप्राण में नवजीवन लाया
     उसने सोया हिंदुस्तान जगाया
          उस आत्मबली और महाबली का
               सब तकते आन-जाना
                     उस महाधीर और कर्मवीर पर
                          सत्य के शत्रु साधते निशाना

लख-लख नमन उस धीरव्रती को
     राष्ट्रोत्थान को जिसने ध्येय बनाया
           जिसने मुरझाए प्रसून खिलाकर
                 सौरभ का भरा खजाना
                      ऐसे महारथी और सत्यपथी पर
                            रिपु सेना साधे निशाना

एक सिंह से टकराने को
      गीदड़ रचते हैं फौज नई
           नहीं चाल में नयापन कुछ भी
                 यह पुराना है ताना-बाना
                      शेर पर काबू कर पाने को
                            सभी गीदड़ बुनते जाल पुराना

ऐसे धीरव्रती और महारथी पर
      अमन के शत्रु साधते निशाना 

मालती मिश्रा 

3 comments:

  1. वाह्ह्ह् दी क्या बात यूपी बीमार में तो जानी दुश्मनों ने हाथ मिला लिए
    अपना वजूद बचाने को

    ReplyDelete
  2. हाँ भाई ये लोग यही तो करते हैं पहले बिहार अब यू पी।
    क्या आप अपना नाम बताने का कष्ट करेंगे?

    ReplyDelete
  3. हाँ भाई ये लोग यही तो करते हैं पहले बिहार अब यू पी।
    क्या आप अपना नाम बताने का कष्ट करेंगे?

    ReplyDelete