Search This Blog

Monday, 29 August 2016

आज मैं आजाद हूँ

उड़ान भरने को स्वच्छंद गगन में
तोल रही पंखों का भार
भूल चुकी हूँ पंख फैलाना
पंखों में भरना शीतल बयार
होड़ लगाना खुले गगन में
छू लेने को अंबर का छोर
निकल पड़ी हूँ तोड़ के पिंजरा
तोड़ दिया है भय की डोर
फँसी हुई थी अपने ही 
आकांक्षाओं के बुने जाल में
अब जब जागी तो तोड़ दिया
नही फँसी निष्ठुर जंजाल में
रहता था मन व्याकुल हरपल
देख-देख असंवेदनशीलता
भर उठता था विद्वेष हृदय में
मानव के प्रति देख क्रूरता
तिल-तिल घुटती रहती थी
उस सुनहरे पिंजरे में
आज वो पिंजरा तोड़ चली
उन्मुक्त गगन के सहरे में
अब तो अपनी हर सुबह होगी
होगी अपनी हर शाम नई
पूरे करूँगी अपने वो सपने
अंतर्मन में दबे-कुचले जो कई
बनाने को उज्ज्वल समाज
अपने घर में तम का विस्तार किया
उसी तम को मिटाने के लिए
पग-पग पर दीप प्रज्ज्वलित किया
न होंगी अब शिकवों की संध्या
नही शिकायतों भरी प्रात
हर शिकवे-गिले मिटाने को
मन में जगाया नव प्रभात
जो समय गँवाया जी हुजूर में
वो तो वापस पा सकती नहीं
परंतु बचे अनमोल पलों को
अब और गँवा सकती मैं नहीं
मालती मिश्रा





1 comment: