Search This Blog

Wednesday, 31 August 2016

चाह मेरे मन की

संसार की बगिया का मैं भी खिलता हुई प्रसून हूँ
मैं भी सुंदर और सुरभित नवल प्रफुल्लित मुस्कान हूँ
उपवन में सौरभ फैलाने को मैं भी तैयार हूँ
अनचाहे भँवरों सैय्यादों की नजरों का शिकार हूँ
तोड़ने को डाली से बढ़ते हाथ बारंबार हैं
हर हाथ मुझको मसल कर फेंकने को तैयार है
पा जाऊँ गर मैं अपने माली की ममता और दुलार 
मिटा दूँ मैं हर बाधा और भँवरों का अनाचार 
फैलाऊँ मैं भी सौरभ फिर हर घर के हर आँगन में
हर हृदय हो सुरभित खुशियों से यही चाह मेरे मन में।
मालती मिश्रा


No comments:

Post a Comment