Search This Blog

Friday, 3 June 2016

याद आता है प्यारा वो गाँव

याद आता है पुराना वो पीपल का पेड़
वो नदी का घाट
वो छोटे बगीचे में महुआ के नीचे 
बिछी हुई खाट 
सूरज की तपती दुपहरी की बेला 
बाग में बच्चों के रेले पर रेला 
तपती दुपहरी में गर्म लू के थपेड़े 
पेड़ों की छाँव में वो बकरी वो भेड़ें 
बेपरवा बचपन की अल्हड़ किलोलें 
लुका-छिपी और झुकी टहनी के झूले 
अंधड़ के झोंके से बाँसों का हिलना 
आपस में लड़ना और गले मिलना 
दुपहरी के धूप से बचने की खातिर
खाटों पर बैठे काका और ताऊ
गाँव की तरक्की पर बतियाने मे माहिर
दूर-दूर तक धूप में फैले वो खेत 
मानों ओढ़े सुनहरी धूप की चूनर
गर्म हवा के तेज थपेड़ों से 
गेहूँ की बालियों के बजते वो घूँघर
आज भी याद है मुझे प्यारा वो गाँव
पंखे कूलर छोड़ भाती थी 
सिर्फ पेड़ों की छाँव.....
याद आता मुझको प्यारा वो गाँव.....

मालती मिश्रा

2 comments:

  1. अच्‍छा लगा आपके ब्‍लॉग पर आकर....आपकी रचनाएं पढकर और आपकी भवनाओं से जुडकर....

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद संजय जी, ब्लॉग पर आपका स्वागत है, कृपया इसी तरह हौसला बढ़ाते रहें।

      Delete