Search This Blog

Wednesday, 5 October 2016

हिंदुस्तान धन्य हुआ तुम सम प्रधान सेवक पाकर

पथ में आए पाषाण खण्ड को पुष्प बना सौरभ फैलाया
बाधा बनने वाले पर्वत ने भी तो तुमको शीश नवाया
अदम्य साहस और क्षमता का विश्व से लोहा मनवाया 
तुमको शत्रु पुकारा जिसने खुद आईना देख के शरमाया
जनता को भरमाते थे जो उनको तुमने अब भरमाया
मातृभूमि की सेवा को सर्वोपरि रखना सिखलाया
हिंदुस्तान धन्य हुआ तुम सम प्रधान सेवक पाकर
किसको कैसे साधा जाए दुनिया सीखेगी तुमसे आकर
दुनिया ही नहीं हमने भी जिसको नकलची, जुगाड़ू कहा चिढ़ाकर
पुनः उसका उत्थान करोगे तुम उसे विश्वगुरु बनाकर 
तुम्हारे मन की बातें अब बन गई हैं जन-जन की बातें
अज्ञान के तिमिर को मिटाकर तुमने दिया ज्ञान की सौगातें।
तुम सम लाल पाकर देश का मस्तक गौरव से तन गया
तुमको जन्म दिया जिसने उस जननी को शत-शत वंदन किया।
ऐसा लाल हो हर घर में तो भारत माँ कभी न रोएगी
मानवता के फूल खिलेंगे प्रेम सौहार्द्र के स्वप्न संजोएगी।
मालती मिश्रा

No comments:

Post a Comment