Search This Blog

Saturday, 22 October 2016

परिंदों का जहाँ शोर हुआ करता था.....

अशांत और भागदौड़ भरा जीवन है नगरों का,
पहले हँसता-मुस्कुराता शांत गाँव हुआ करता था।
मुर्गे की बाँग और कोकिल के मधुर गीत संग,
सूर्योदय के स्वागत में चहल-पहल हुआ करता था।
ऊँचे भवन अटारी ढक लेते हैं सूरज को,
पहले तो सुरमई भोर हुआ करता था।
सिर मटकी धर इठलाती बलखाती सी जातीं गोरी,
हास-परिहास से खनकता पनघट हुआ करता था।
सखियों की चुटकी और प्रेम रस की बतियाँ,
हर ओर चहकता सा यौवन हुआ करता था।
आजकल तो संध्या भी चुपके से आती है,
पहले परिंदों का शोर हुआ करता था।
हल-बैलों संग आता था कृषक जब खेतों से,
मनभावन गोधूलि वह बेला हुआ करता था।
गगन में परिंदे, अवनी पर शैशव की चहक,
ऐसा सिंदूरी सूर्य गमन हुआ करता था।
ढक लेती काले आँचल से रजनी जो धरा को,
ऊपर जगमग तारों भरा अंबर हुआ करता था.
महानगरों की चमक और व्याकुलता से परे,
शांत-सुखद गाँवों का जीवन हुआ करता था।
मालती मिश्रा

12 comments:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 23 अक्टूबर 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी रचना को शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद यशोदा जी।

      Delete
    2. मेरी रचना को शामिल करने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद यशोदा जी।

      Delete
  2. आजकल तो संध्या भी चुपके से आती है,
    पहले परिंदों का शोर हुआ करता था।......बहुत सुन्दर ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. कौशल लाल जी बहुत-बहुत आभार।

      Delete
  3. था से कोशिश करे है कि तरफ चलने की :)

    बहुत सुन्दर ।

    ReplyDelete
    Replies
    1. सुशील कुमार जी धन्यवाद प्रतिक्रिया और सुझाव दोनों के लिए। सुझाव पर अमल करने का प्रयास करूँगी।

      Delete
    2. सुशील कुमार जी धन्यवाद प्रतिक्रिया और सुझाव दोनों के लिए। सुझाव पर अमल करने का प्रयास करूँगी।

      Delete
  4. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. एम वर्मा जीं बहुत-बहुत आभार।

      Delete
    2. एम वर्मा जीं बहुत-बहुत आभार।

      Delete