Search This Blog

Monday, 18 June 2018

जाग री विभावरी


ढल गया सूर्य संध्या हुई
अब जाग री तू विभावरी

मुख सूर्य का अब मलिन हुआ
धरा पर किया विस्तार री
लहरा अपने केश श्यामल
तारों से उन्हें सँवार री
ढल गया सूर्य संध्या हुई
अब जाग री तू विभावरी

पहने वसन चाँदनी धवल
जुगनू से कर सिंगार री
खिल उठा नव यौवन तेरा
नैन कुसुम खोल निहार री
ढल गया सूर्य संध्या हुई
अब जाग री तू विभावरी

मालती मिश्रा, दिल्ली✍️

4 comments:

  1. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
    Replies
    1. बहुत-बहुत आभार आ० कविता जी🙏

      Delete
  2. अति सुन्दर ...👌👌👌👌👌

    ReplyDelete
    Replies
    1. सस्नेहाभिनन्दन🙏

      Delete