Search This Blog

Tuesday, 6 September 2016

जीवन एक किताब है

जीवन एक किताब है
इसके हर पन्ने पर लिखी
एक नई कहानी है
शैशवावस्था की किलकारियों से
सजा हुआ है इसका पहला पन्ना
खुशियों की हँसी 
वो चहकती मचलती सी अठखेलियाँ
पन्ने के हर हरफ पर लिखी
एक नई गुनगुनाती सी लोरी
माँ का वो ममता भरा आँचल
लड़खड़ाते हुए कदमों को
मजबूत सहारा देती
पिता की उँगली का हर अहसास है
जीवन एक किताब है

इसके हर पन्ने पर लिखी है
एक नई कहानी
कभी बचपन तो कभी जवानी
सखियों संग के अलबेले से पल
कभी स्कूल कभी घर का चौबारा
कभी नदिया तो कभी वर्षा की धारा
स्कूल न जाने के बहाने ढूँढती
झूठ-मूठ के दर्द दिखाती
नए-नए स्वांग रचाते
वो खट्टे मीठे से अनोखे पल
पन्नो के हर शब्द बयाँ करते हैं
पल वो जो साथ नहीं आज हैं
जीवन एक किताब है....

इसके हर पन्ने पर लिखा
एक नया अध्याय है
कभी शिक्षित बनने का संकल्प
गुरुजी के उपदेश का पल
इसके हर लफ्जों में
वर्णित है जीवन का हर इम्तहान
कुछ कर गुजरने की ललक
मंजिल तय करने का पैमाना
आसमान को छूने की चाह
चंद्रमा को मुट्ठी में 
बंद कर लेने की अभिलाषा
एक-एक लफ्ज में
लिखी संघर्ष की नई कहानी है
इसमें हर कहानी का आगाज़ है
जीवन एक किताब है.....

इसके हर लफ्जों से लरजती
आँखों की करुण पुकार
जिनको कहने से जिह्वा भी
करती है गुरेज
मन की विह्वलता और सांसों की
कमजोरी लिखी है
पन्ने-पन्ने पर अंकित है
सुख की सुबह और गम की रातें
खुशियों से पुलकित हृदय का
हर एक अहसास लिखा है
लाचारी के आँसुओं का
बिन माँगा हिसाब लिखा है
इसके हर पन्ने पर लिखा 
जीवन का हर सोपान है
जीवन एक किताब है....

मालती मिश्रा





No comments:

Post a Comment