Search This Blog

Friday, 16 September 2016

जीवन तुम पर वार दिया

नन्हें से कदम पहली बार उठे
पायल जिस आँगन पहली बार बजे
उस आँगन को भी बिसार दिया
अपना जीवन तुम पर वार दिया

जिस बाबुल से दुनिया में नाम मिला
जिस माँ से मेरा अस्तित्व जुड़ा
उन जन्मदाताओं का छोड़ प्यार दिया
यह जीवन तुम पर निसार किया

जिन भाई-बहनों संग किलोल किया
मीठी झड़पें और अठखेल किया
संग हँसने रोने की मीठी यादें वार दिया
तुम संग जीवन सँवार लिया

अपनी खुशियाँ, अपने सपने
लगता न थे वो कभी अपने
तुम्हारी आँखों के सपनो पर हार दिया
उन सपनों को अपना संसार दिया
मालती मिश्रा

1 comment:

  1. सर्व मांगल्य मांगल्येगौरी-सबका भला करने vaaliवाली.शिवे-भगवान शिव kiकी पत्नी,सर्वाध साधिके-सब से पूजित, शरण्ये त्र्यम्बके गौरी नारायणी नमोस्तुते-हेभगवान शिव की पत्नी और विष्णु विष्णु की बहन मैं तुम्हारी स्तुति और तुम्हें नमस्कार करता हूँ—प्रस्तुति-अशोक
    हे देवी,तुम सफलता,बुद्धि,सांसारिक आनन्द और मुक्ति देने वाली hoहो ,मन्त्र ही तुम्हारा रुप हैं. हे महालक्ष्मी मैं तुम्हें प्रणाम करता hoon हूँ . प्रस्तुती-अशोक

    ReplyDelete