Search This Blog

Monday, 26 September 2016

शिकवे-गिले



सुबह की मीठी-मीठी सी धूप खिड़की से छनकर कमरे मेंआ रही थी धूप की गरमाहट परिधि को अपने चेहरे पर महसूस हुई तो वह एकाएक उठ बैठी और घड़ी मे समय देखा तो सात बजने वाले थे। वह इतमी देर कभी नहीं सोती पर आज न जाने क्यूँ इतनी देर तक सोती रही, वह कमरे से निकलकर बरामदा पार करती हुई लॉन में आ गई। जनवरी की सर्दी में यह गुनगुनी सी धूप मानो  शरीर को प्यार से सहलाने लगी, हल्की-हल्की सी गरमाहट मन को बहुत अच्छी लग रही थी। वह वहीं कुरसी पर बैठ गई उसके उस छोटे से लॉन के बाद कॉटेज का मेन गेट (जिसकी ऊँचाई को चार-साढ़े चार फिट की होगी) और फिर पतली सी सड़क जिसके दोनो ओर रंग-बिरंगे फूलों के छोटे-छोटे पौधे थे और सड़क के दूसरी ओर परिधि के कॉटेज के सामने से थोड़ा दायीं ओर एक और कॉटेज था जो कुछ दिनों से बंद पड़ा था, उसमें एक बुजुर्ग दंपत्ति रहते थे जो अब उसे बेचकर अपने बेटे के पास शहर चले गए। थोड़ी-थोड़ी दूर पर इसी प्रकार के इक्का-दुक्का से कुछ छोटे-बड़े घर इधर-उधर बने हुए थे और फिर काफी दूर तक ऊँची-नीची धरती पर हरियाली बिखरी हुई थी जो सुबह के कुहरे में ढकी हुई कहीं-कहीं से ऐसे झाँक रही थी मानो विशाल सागर में डुबकी लगा के ऊपर को उठ रही हो और उसके इस हरियाली भरे दूधिया सौंदर्य से  पार दूर पेड़ों के झुरमुटों के पीछे से झाँकने का प्रयास करते हुए सूरज ने अपनी सुनहरी किरणों से पेड़ों के मस्तक पर मानों चमकता हुआ स्वर्ण मुकुट पहना दिया है। प्रकृति का यह मनोरम सौंदर्य देख परिधि मन ही मन सोचने लगी कि किस प्रकार सूरज स्वयं के आने से पहले ही अपने अरुण प्रकाश से संसार को अपने आने की सूचना दे देता है, कितना मनोरम होता है प्रातः काल सूर्योदय का यह दृश्य। अचानक उसकी नजर सामने वाले मकान पर पड़ी जो कई महीनों से खाली पड़ा हुआ था, आज वहाँ पर कुछ चहल-पहल का आभास हो रहा था, कोई दिखाई तो नहीं दे रहा था परंतु कमरे से बरामदे का गेट थोड़ा खुला हुआ था, बरामदे में कुर्सियाँ और एक छोटी सी मेज रखी थी, कुछ गत्ते के बड़े-बड़े बंद डब्बे रखे थे शायद उनमें सामान था जो अभी खोला नहीं गया था। मंजू! परिधि ने आवाज दी।
जी दीदी आई, अंदर से आवाज आई और लगभग भागती हुई सी मंजू आ धमकी।
जी दीदी... मंजू ने प्रश्नात्मक मुद्रा में कहा।
वो सामने वाले मकान में कोई रहने आया है क्या? तुझे पता है कुछ?    परिधि ने जिज्ञासा के अतिरेक में एक साथ ही दो-दो सवाल पूछ लिए।
ह...हाँ दीदी, वो लोग शायद रात को ही आए हैं, सुबह जब मैं आई तब तक तो उनका सामान आ चुका था। वो लोग कौन हैं, परिवार में कौन-कौन हैं ये मैं पता लगा के दोपहर तक बता दूँगी। मंजू ने इतने भोलेपन से कहा कि परिधि के होठों पर मुस्कान तैर गई।
अच्छा!! मैंने तो बस यूँ ही पूछ लिया था मुझे तुझसे जासूसी नहीं करवानी। जा काम देख और नहाने का पानी गरम हो गया?
नहीं दीदी बस अभी गरम किये देती हूँ। कहती हुई मंजू भीतर चली गई।
परिधि ने मेज पर रखा अखबार उठा लिया और पेज पलटने लगी, वही रोज की तरह के समाचार कहीं किडनैप, कहीं झपटमारी तो कहीं देश-विरोधी नारे। "ये तो रोज-रोज की यही कहानी हो गई है बस जगह का नाम बदल जाता है बस!" परिधि मन ही मन बुदबुदाई। अरे......ये तो शायद.....परिधि चौंककर ध्यान से अखबार के चौथे पेज पर छपी एक तस्वीर को बड़े ध्यान से देखने लगी जो कि वहाँ पर लिखे लेख के लेखक की तस्वीर थी। य.....ये तो कैलाश है....ये लेख लिखने लगा। सोचते हुए वह उत्सुकतावश पूरा लेख पढ़ गई, बहुत ही संतुलित और प्रभावी लेख था।
अच्छा लिखता है...वह मन ही मन बुदबुदाई। कैलाश....परिधि के होठों के कंपन के साथ ही यह ध्वनि कंपकंपाती हुई निकली, उसके सुंदर और शांत चेहरे पर कुछ विषाद की रेखाएँ घिर आईं। इससे पहले कि  वह अतीत की गलियों में फिर से खो जाती....
दीदी जी पानी गरम करके बाथरूम में रख दिया है आ जाइए नहा लीजिए। भीतर से मंजू की आवाज आई। अचानक आई आवाज से परिधि इसप्रकार चौंक पड़ी जैसे उसे किसी ने गहरी नींद से खींचकर जगा दिया हो, हड़बड़ा कर कुर्सी से उठ खड़ी हुई और "आती हूँ मंजू" कहती हुई परिधि ने अखबार को मेज पर रखा और भीतर चली गई।
नाश्ता आदि से निवृत होकर परिधि स्टडी रूम में चली गई, छुट्टी के दिन परिधि का समय स्टडी-रूम में, कुछ देर बाजार आदि घूमने में बाकी सुबह-शाम प्रकृति के सौंदर्य को अपने भीतर समेट लेने के प्रयास में उसकी छटा निहारने में कटता। अचानक उसे आज के अखबार की याद आई, वह बाहर लॉन में आई, पर अखबार वहाँ नहीं था। शायद मंजू ने कहीं रख दिया होगा। भीतर आई बैठक में मेज पर अखबार नहीं था, उसने मंजू को आवाज लगाई- " मंजू आज का अखबार कहीं देखा क्या?"
हाँ दीदी जी वो सामने जो नए पड़ोसी आए हैं, वो माँगकर ले गए, कह रहे थे पढ़कर लौटा देंगे। आप बाथरूम में थीं तो मैने....कहते हुए मंजू चुप हो गई। परिधि का निर्विकार चेहरा देख उसे लगा उसने शायद गलती कर दी। वह बाहर की ओर लपकी "मैं अभी लाती हूँ।"
"नहीं" परिधि झट से बोल पड़ी। "रुक जा, अभी उन्होंने शायद पढ़ा न हो, अपने आप दे जाएँगे और यदि नहीं लाए तो शाम को ले आना, उसमें एक आर्टिकल है बस इसीलिए, नहीं तो वापस माँगती ही नहीं।" कहती हुई परिधि फिर स्टडी रूम की ओर बढ़ गई। अब वह बिल्कुल शांत थी, उसे देख कर यह अनुमान लगाना मुश्किल था कि वह शांत है या उदास।
न चाहते हुए भी बार-बार परिधि का मनो-मस्तिष्क अतीत की गलियों की ओर भागने का प्रयास करता, वह स्वयं को किसी अन्य कार्य में व्यस्त करने का असफल प्रयास करती कभी कोई पुस्तक उठाकर पढ़ती, कभी कोई अन्य पुस्तक के पन्ने पलटने लगती, परंतु मस्तिष्क से कैलाश की छवि नहीं हटा पा रही थी। वह बार-बार दिलो-दिमाग को पीछे की ओर खींचता। ओह! क्या करूँ मैं? क्यों !! क्यों!! आज फिर मेरा मन इतना बेचैन हो रहा है? क्यों  दिल फिर से अतीत के पन्ने उलटना चाहता है? क्या नहीं है मेरे वर्तमान में, क्यों सोचूँ मैं उन घड़ियों को जो मेरी होकर भी मेरी नहीं थीं? क्यों?
प्रकृति से उसे बचपन से ही प्रेम था, दूर-दूर तक फैले हुए हरे-भरे खेत, आसमान को छूने की कोशिश करते ऊँचे-ऊँचे पेड़, कल-कल करती नदी और तट पर जहँ-तहँ दूर-दूर छिटके रंग-बिरंगे जंगली फूलों के छोटे-छोटे पौधे। ये सब उसे अपनी ओर बुलाते। वह उनके साथ घंटों समय बिता सकती थी, जरा भी न ऊबती। प्रकृति की गोद में खेलते कूदते ही वह किशोरावस्था को पार कर एक सुंदर रमणी बन चुकी थी। ग्रामीण अंचल में रहते हुए भी उसने बी०ए० कर लिया था और अब अंग्रेजी विषय से एम०ए० करने की तैयारी कर रही थी।
एम०ए० करने के लिए मुझे शहर जाना पड़ेगा, पर क्या माँ-बापू इसके लिए तैयार होंगे, मैं उन्हें कैसे मनाऊँ? इसी उधेड़-बुन में परिधि नदी के किनारे टहलते-टहलते उस जगह आ गई थी जहाँ से नदी काफी नीचे बह रही थी। परिधि को इसका पता ही न चला, अचानक घास के कारण उसको जमीन दिखाई नहीं दी और वह नदी में गिर गई। "छपाक" की तेज आवाज के साथ एक लड़की की चीख भी सुनाई दी कुछ दूर पेड़ के नीचे बैठे उस युवक को। उसे समझते देर न लगी, वह नदी की तरफ भागा और देखा कि बाहर निकलने के लिए हाथ-पाँव मारती परिधि कभी डूबती कभी उतराती। वह युवक बिना वक्त गँवाए नदी में कूद पड़ा और तैरता हुआ वहाँ तक पहुँच गया। कुछ देर में वह परिधि को कंधे पर डाले नदी के बाहर निकल आया और उसे वहीं घास पर लिटा कर पेट दबाकर पानी निकाला। थोड़ी देर में वह उठकर बैठ गई। बेहोश होने से पहले परिधि ने उस युवक को पानी में कूदते देख लिया था  अतः होश में आते ही उसने अपना दुपट्टा ठीक करने की कोशिश की।
रहने दीजिए नदी की धारा आपको नहीं ले जा सकी तो उसे आपके दुपट्टे से ही संतोष करना पड़ा, युवक ने मुस्कुराते हुए कहा।
उसके इस बेवक्त और बेबाक मजाक पर परिधि भी
मुस्कुरा दी।
आपको इस गाँव में पहले कभी नहीं देखा.....परिधि ने कहा
अच्छा तो जो रोज-रोज दिखाई दे सिर्फ वही आपको बचाने का हकदार है, माफ कीजिएगा मुझे पता नहीं था....उस युवक ने मुस्कुराते हुए मजाक भरे लहजे में कहा।
आप कभी गंभीर भी होते हैं? परिधि ने अपनी मुस्कुराहट छिपाते हुए जानबूझ चेहरे पर गंभीरता लाते हुए कहा।
आप तो लगता है बुरा मान गईं। कमाल है जान बचाने वाले का थोड़ा सा मजाक भी सहन नहीं कर सकतीं।
धन्यवाद तक नहीं किया और गुस्सा और दिखाने लगीं, चलिए आपको फिर से नदी में फेंक देता हूँ अपना दुपट्टा भी ढूँढ़ लाइएगा। कहते हुए वह परिधि की तरफ ऐसे लपका जैसे सचमुच वह उसे उठाकर नदी में ही फेंकने वाला हो।
धन्यवाद जैसा शब्द बहुत छोटा प्रतीत हुआ इसीलिए...
कहते हुए परिधि चुप हो गई।
खैर...खैर... कोई बात नहीं आप इतनी सीरियस मत होइए, मैं तो मजाक कर रहा था। अब ये बताइए आप घर कैसे जाएँगी, आप तो पूरी तरह भीग चुकी हैं और आपका दुपट्टा भी अपना कर्तव्य अधूरा छोड़कर बह गया। कहते हुए पुनः मुस्कुराहट उसके होठों पर तैर गई। उसकी यह मुस्कान न जाने क्यों परिधि के भीतर तक सिहरन भर गई, अब उसे पहली बार यह अहसास हुआ कि वह भीगी हुई बिना दुपट्टे के उस अनजान युवक के समक्ष बैठी है। शर्म से उसका चेहरा लाल हो गया, उसने घुटने सिकोड़ कर स्वयं को छिपाने की असफल कोशिश की।
अचानक वह अचकचा उठी उसे लगा वह उसे पकड़ने वाला है परंतु यह क्या.... उसने अपनी कमीज उतारकर परिधि के कंधों पर डाल दी थी। थैंक्यू.... परिधि ने कहा।
चलिए आपको घर तक छोड़ देता हूँ, सूर्यास्त होने वाला है। युवक ने कहा
परिधि बिना कुछ बोले उसके साथ चल दी। दोनों चुपचाप चल रहे थे, इतने चुप कि उन्हें देख कोई नहीं कह सकता था कि अभी कुछ देर पहले दोनों में इतनी बातचीत भी हुई होगी। रास्ते में एक-दो लोगों ने उन्हें इस तरह साथ देखकर पूछा भी क्या हुआ बिटिया? "कुछ नहीं काका ये जरा नदी की गहराई नापने गई थीं।" कहकर युवक ने वहाँ भी बात को मजाक में उड़ा दिया लेकिन पूछने वाले समझ गए कि वह नदी में गिर गई थी, उसे नसीहत भी दे डाली "बिटिया नदी में अभी पानी ज्यादा है तो ज्यादा किनारे पर मत टहला करो।"
परिधि घर पहुँची तो माँ उसे इस अवस्था में देखकर बहुत परेशान हो गईं,. वहाँ भी उसी युवक ने माँ को भी समझाया कि परेशान होने की आवश्यकता नहीं है।
अच्छा मैं चलता हूँ...कहकर वह चल दिया। फिर एकाएक मुड़ा, मेरी कमीज तो दे दो, इसे अभी मुझसे प्यार है, वह मुस्कुराते हुए बोला।
परिधि ने झट से कमीज उसे पकड़ा दी। वह बिना कुछ बोले चला गया। न ही परिधि को न ही उसे यह ध्यान रहा कि वो एक दूसरे का नाम पूछते।
माँ क्या आप जानती हैं उसे? इतना बक-बक करता है कि मुझे ये तक याद नही रहा कि नाम भी पूछ लूँ। इससे पहले कि माँ उसे कुछ कहतीं उसने ही सवाल दाग दिया।
हाँ, वो गाँव के किनारे जो कोठी है गोपाल दास जी की, ये उन्हीं का बेटा है। माँ ने कहा ।
पर आज से पहले तो मैंने कभी इसे गाँव में देखा नही... परिधि बोली
वो शहर में रहता है न, पढ़ाई कर रहा है। माँ ने बताया, अब तू जा जाकर कपड़े बदल ले नही तो बीमार पड़ जाएगी।
अब इतना बताया तो ये भी बता दो उसका नाम क्या है? परिधि अपनी जिज्ञासा को रोक न सकी और माँ से पूछ ही लिया।
कैलाश... कैलाश नाम है उसका, अब जाकर कपड़े बदल।.   कहती हुई माँ बाहर चली गईं।
कैलाश....अच्छा नाम है, बुदबुदाती हुई परिधि दूसरे कमरे में चली गई।

पूरब में सूरज की लाली फैलने लगी थी आसमान इस प्रकार लाल हो रहा था मानो किसी ने पूरे आसमान में  लाल गुलाल छिड़क दिया हो, पक्षियों का कलरव कानों में मधुर संगीत घोल रहा था, मंद-मंद सी पवन की ठंडक से मन भी शीतल हो रहा था। प्रकृति के इस अनुपम सौंदर्य के रसपान से परिधि कभी विरक्त नहीं होती थी, आज भी वह अपनी सबसे प्रिय सखी मधु के साथ बाग में टहलने जा रही थी। ऐसे सुंदर मौसम का आनंद जिसने नहीं लिया उसने कितनी अनमोल निधि खो दी, है न मधु? परिधि ने कहा।
हाँ वो तो है, पर तू मुझे ये बता कल तू नदी में कैसे गिर गई, और तुझे बचाया किसने था? मधु ने पूछा।
बस पूछ ही मत.....कहते हुए परिधि ने उसे पूरा वृत्तांत कह सुनाया।
और वो कैलाश है न, सचमुच कल वो मेरे लिए तो फरिश्ता बनकर आया, पर इतना बोलता है कि किसी और को तो बोलने का मौका ही नहीं देता, उसकी हर बात मजाक से शुरू होकर मजाक पर ही खत्म होती है। यहाँ तक कि मुझे उसने नाम तक पूछने का मौका नहीं दिया, पर है बड़ा ही भ.....
अरे बस...बस....बस परिधि को लगातार बोलते देख मधु ने रोका, अब अपना ये कैलाश पुराण बंद कर दे, कितनी तारीफ करेगी उसकी।
मैं कुछ ज्यादा बोल गई? उसने हड़बड़ा कर पूछा।
वो देख... अचानक मधु ने एक ओर इशारा किया
ऐं ये यहाँ भी.... आश्चर्य और प्रसन्नता के मिले-जुले भाव परिधि के चेहरे पर एक साथ उभर आए, उसका सुंदर मुखड़ा और खिल उठा। यह देख मधु ने उसके मन में उत्पन्न होने वाले उन कोमल भावों को भी पढ़ लिया जिससे उसकी सखी खुद भी अनजान थी।
अनायास ही वे दोनो उस सजीले नवयुवक की ओर बढ़ गईं।
आप यहाँ क्या कर रहे हैं? परिधि ने पूछा
हंह... वो बाग के बाहर ऐसा कोई बोर्ड नहीं दिखा जिसपर ये लिखा हो कि यहाँ हवाखोरी के लिए सिर्फ लड़कियाँ ही आ सकती हैं इसलिए मैं भी चला आया, सोचा जॉगिंग के लिए इससे अच्छी जगह हो ही नही सकती।
देखिए कैलाश बाबू....
अरे वाह रात भर में मेरा नाम भी पता कर लिया परिधि जी ने, लगता है रात भर मेरे बारे में ही सोचती रही हैं आप।
आपको मेरा नाम कैसे पता? परिधि ने तुनक कर कहा।
अरे भई जब गाँव में कोई लड़की नदी में छलाँग लगाती है न, तो अनजानों को भी नाम पता मालूम हो जाता है, फिर मैंने तो जान बचाई है आपकी।
आप कल से अहसान दिखाए जा रहे हैं, कोई जान बचाने वाला ऐसे बार-बार ताने देता है क्या.... परिधि रुआँसी सी होकर बोली, वह ये भूल ही गई थी कि उसके साथ मधु भी है जो बस दो कदम की दूरी पर खड़ी दोनों की नोंक-झोंक का आनंद ले रही थी।
नहीं-नहीं आप बुरा मत मानिए, दोस्तों से मैं ऐसे ही बात करता हूँ, फिर हम तो एक ही गाँव के हैं, क्या हम दोस्त नहीं हो सकते? कहते हुए कैलाश ने उसकी ओर अपना हाथ बढ़ा दिया...
क्यों नहीं... कहते हुए अचानक ही मधु ने उसका हाथ कैलाश की ओर बढ़ा दिया।
अब तीनो इसप्रकार घुल-मिल  कर बातें कर रहे थे जैसे कि पुराने मित्र हों।
कैलाश जी आपने क्या किया है? मेरा मतलब पढ़ाई कहाँ तक...परिधि ने आगे की बात जानबूझ कर अधूरी छोड़ दी।
पी०एच० डी० कर रहा हूँ, हिंदी साहित्य से।
और परी तुम.... मैंने सुना है कि तुम भी उच्च शिक्षिता हो, काफी होशियार हो....
वह चुपचाप उसका मुँह देखती रही....
क्या हुआ? मैने कुछ गलत कहा..... कैलाश ने पूछा
कैलाश बाबू इसका नाम परिधि है....मधु ने कहा
तो क्या हुआ मैं प्यार से परी कहना चाहता हूँ... नाम बुरा है क्या?
नहीं आप कह सकते हैं, बहुत अच्छा लगा.... परिधि जैसे अपने आप से ही बड़बड़ाई।
फिर क्या था दोनों अक्सर मिलते कभी बगीचे में कभी नदी किनारे घंटों टहलते रहते, उनकी बातें ही कभी समाप्त नहीं होतीं।  कभी पढ़ाई से संबंधित कभी गाँव और गाँव वालों से। धीरे-धीरे दोनों के बीच कभी न टूटने वाला रिश्ता बन गया प्रेम का रिश्ता। कैलाश कहता शहर में कॉलेज में तुम्हारा दाखिला मैं करवा दूँगा, तुम्हें परेशान होने की आवश्यकता नहीं।
और उसने ऐसा ही किया भी परिधि का एडमिशन करवा दिया वह हॉस्टल में रहकर पढ़ती दोनों एक ही शहर में थे तो हर हफ्ते, कभी-कभी हफ्ते में दो बार भी मिलते और साथ समय व्यतीत करते। दोनों ही अब एक-दूसरे के बिना अपने भविष्य की कल्पना नहीं कर सकते थे।
कैलाश के घर में किसी का विवाह था तो उसे गाँव जाना पड़ा, पंद्रह दिनों तक उसके बिना कैसे रहूँगी, यह सोचकर परिधि भी गाँव आ गई।
विवाह के कार्यों में व्यस्तता के बावजूद कैलाश रोज सुबह और शाम को अपनी परी से मिलने का समय निकाल ही लेता।

दो दिन हो गए मधु से मुलाकात नहीं हुई, ऐसा तो कभी नहीं हुआ फिर क्या बात हो गई? सोचकर परिधि मधु के घर की ओर चल पड़ी।
आँगन का दरवाजा खुला था, आँगन पार करके बरामदे की सीढियाँ चढ़ ही रही थी कि उसे भीतर से कैलाश की आवाज आई। वह जल्दी-जल्दी दो ही कदमों में बरामदा पार कर कमरे के दरवाजे तक आ गई, दरवाजे को हल्के हाथ से धकेला तो वह थोड़ा सा खुल गया, सामने उसे कैलाश खड़ा दिखाई दिया, उसका बाँया हिस्सा दरवाजे की ओर था इसलिए वह परी को देख न सका।
हाँ काका मैं मधु से विवाह करूँगा, बस मुझे दस-पंद्रह दिन का समय दे दीजिए। कैलाश की यह बात सुनकर परिधि को चक्कर आ गए, पैर काँपने लगे,उसे ऐसा लगा मानो किसी ने उसका दिल अपनी मुट्ठी में भींच लिया हो, जब वह खुद को संभाल न सकी तो लड़खड़ा कर वहीं दरवाजे की ओट में बैठ गई।
दो-चार मिनट तक उसी अर्द्ध मूर्छा की स्थिति में बैठी रही, फिर धीरे से उठकर अपने घर की ओर चल दी।
जैसे-तैसे वह घर पहुँची और अपने कमरे में जाकर बिस्तर पर गिर पड़ी और फूट-फूटकर रोई।
क्यों कैलाश, क्यों किया तुमने ऐसा? मेरी सबसे प्रिय सखी और मेरा कैलाश दोनों ने मिलकर मुझे धोखा दिया... इस प्रकार के न जाने कितने सवाल उसके मनो-मस्तिष्क पर हथौड़े की तरह वार कर रहे थे। उसका मन कर रहा था कि अभी जाए और दोनों से पूछे कि उन्होंने उसके साथ ऐसा क्यों किया.... पर अब ऐसा करके भी क्या फायदा, जो रिश्ता एकबार कलंकित हो चुका उससे सवाल-जवाब करके उसे शुद्ध तो नहीं किया जा सकता। वह रोते-रोते सो गई।

कहीं जा रही हो क्या बेटा? उसे अपने कपड़े बैग में रखते देख माँ ने पूछा।
हाँ माँ मैं वापस जा रही हूँ। परिधि ने कहा
पर तू तो पंद्रह दिनों के लिए आई थी। माँ ने अचंभित होकर कहा।
माँ यहाँ रहकर पढ़ाई का बड़ा नुकसान हो रहा है, तो आप मुझे रोकना मत। कहकर वह कपड़े बदलने चली गई।
माँ उसके इस अजीब व्यवहार से अचंभित रह गईं।
शहर जाकर परिधि ने सबसे पहले अपना हॉस्टल बदल दिया, फिर माँ के नाम पत्र लिखकर उन्हें हॉस्टल बदलने तथा नए हॉस्टल का पता बताया और मधु, कैलाश और किसी अन्य सहेली को पता बताने से मना कर दिया। इसके बाद परिधि पाँच-छः सालों तक गाँव नही गई। माँ बापू ही मिलने आ जाते थे।

अचानक डोर बेल बज उठी, परिधि की तंद्रा भंग हो गई। ओह... कितनी देर हो गई, दोपहर के दो बज गए ये मंजू ने अभी तक लंच नहीं बनाया....बड़बड़ाती हुई परिधि स्टडी रूम से बाहर आई।
दीदी जी ये लीजिए आज का अखबार...और खाना लगा दिया है, मैं आपको बुलाने ही आ रही थी... कहते हुए मंजू ने अखबार परिधि की ओर बढ़ाया। उसने चुपचाप अखबार ले लिया और डाइनिंग टेबल की ओर बढ़ गई।
मंजू वो जो परिवार सामने के घर में आए हैं, कितने मेंबर हैं?..... खाना खाते हुए परिधि ने पूछा
दीदी जी मुझे पता नहीं पर दो बच्चे देखे थे, अभी अखबार वापस देने आए थे, बड़ी लड़की है और कोई चार-पाँच साल का लड़का है।
अच्छा ऐसा कर तू अभी खाना खा ले फिर उनके घर चली जा, अभी-अभी शिफ्ट किया है, फिर क्या पता इस जगह  नए हैं,  तो हो सकता है किसी सहायता की आवश्यकता हो, पूछ लेना और सामान वगैरा लगवाने में सहायता की जरूरत हो तो वो भी कर देना, यहाँ का काम मैं कर लूँगी.... परिधि ने कहा।
जी मैं चली जाऊँगी पर यहाँ का काम भी मैं कर लूँगी आप मत करना, कोई ज्यादा नहीं है।.  मंजू रसोई की ओर जाती हुई बोली।

दो दिन हो गए थे परंतु अभी तक परिधि ने नए पड़ोसियों को देखा तक नहीं था, वह बैंक में मैनेजर है, सुबह नौ बजे बैंक चली जाती है और शाम को पाँच बजे वापस आती है, फिर अपने रोजमर्रा के कार्यों में व्यस्त हो जाती है।
उसके बैंक में एक नया ऑफिसर आया है जो उसके ही गाँव के पास वाले गाँव से है। पुरानी जान पहचान न होते हुए भी सिर्फ यह जानकर कि वो पड़ोसी गाँव का है, परिधि को अजीब सा अपनापन लगने लगा है।
क्या मैं अंदर आ सकता हूँ मैडम? ऑफिस के गेट पर खड़े सुधीर ने पूछा।
अरे आइए मिस्टर सुधीर, मैं अभी आपके विषय में ही सोच रही थी।
कहिए मैडम कुछ काम हो तो बताइए.....सुधीर ने कहा।
नहीं....नहीं.... मैं तो दरअसल यह सोच रही थी कि आप यहाँ पर अभी आए हैं, तो आपको तो कई कामों में परेशानी हो रही होगी, मसलन आपने बच्चों का एडमिशन वगैरा करवाने में?  परिधि ने कहा।
जी हाँ मैडम, आपके पास अभी यही पूछने आया था कि कोई अच्छा स्कूल हो आस-पास तो प्लीज बताएँ। सुधीर ने कहा
जरूर सुधीर जी, लेकिन आप एक काम क्यों नहीं करते, पहले अापकी कॉलोनी के बच्चे कहाँ जाते हैं ये पता कीजिए अगर वो ठीक न लगे तब कहीं और कोशिश कीजिए। परिधि ने कहा।
आप सही कह रही हैं, मैं आज ही पता करता हूँ फिर बताता हूँ आपको। मैडम वैसे तो हम अभी-अभी यहाँ आए हैं किसी को जानते नहीं, आप हमारे पड़ोसी गाँव की हैं इसीलिए अपनापन महसूस होता है, मेरी पत्नी आपसे मिलना चाहती है, अगर मैं आपको किसी दिन डिनर पर आमंत्रित करूँ तो क्या आप आएँगी। सकुचाते हुए सुधीर ने पूछा।
क्यों नहीं सुधीर जी, जरूर आऊँगी पर पहले आप लोग अच्छी तरह सैटल हो जाएँ, बच्चों के एडमिशन करवा लें फिर। परिधि ने कहा।
सुधीर आश्वस्त होकर अपने केबिन में चला गया।

संध्या के आठ बज रहे थे परिधि बरामदे में बैठी थी, रात की काली चादर ने प्रकृति के सौंदर्य को ढँक लिया है, अब सुंदरता दिखाने की बारी आसमान की थी, जहाँ चंद्रमा पतली सी हसिया के आकार में अपनी सोने सी छटा बिखरा रहा था किंतु उसकी आभा केवल उसके आस-पास तक ही सीमित थी, वह पृथ्वी तक पहुँचने में असमर्थ थी। आकाश की विशाल थाल हीरे समान जगमगाते तारों के समूह से भरा हुआ था। आसमान का यह सौंदर्य देखते हुए परिधि न जाने किन खयालों में खोई हुई थी कि तभी गेट पर दो मानवाकृति दिखाई दी। बिजली की मद्धिम रोशनी में वह पुरुष आकृति कुछ जानी- पहचानी सी लगी। मंजू अपने घर जा चुकी थी इसलिए परिधि को स्वयं ही गेट खोलने के लिए उठना पड़ा।
कौन....कौन है गेट पर?  कहते हुए वह बाहर की ओर बढ़ी....
हम आपके नए पड़ोसी.... पुरुष आकृति की आवाज आई।
परिधि को आवाज भी जानी- पहचानी लगी।
तब तक वह पास आ चुकी थी, और वह आकृति स्पष्ट हो गई। अरे सुधीर जी आप, आप हमारे नए पड़ोसी हैं, पहले क्यों नहीं बताया ! आश्चर्य और प्रसन्नता में डूबी परिधि ने गेट खोल दिया उसका ध्यान महिला की ओर नही गया।
परिधि..... अचानक महिला ने पुकारा...जो अब तक अवाक् सी बाहर ही खड़ी थी।
परिधि को मानो गर्म तवे पर पैर पड़ गया वह झटके से चौंक कर रुक गई और उसी तेजी से पीछे मुड़ी।
य....ये तो मधु की आवाज है....इतने सालों में भी वह मधु की आवाज नहीं भूली।
मधु !  त्...त्..तुम यहाँ.... अब तक मधु भी बरामदे में आ चुकी थी।
मैडम जी मैने तो सोचा ही नहीं था कि हम आपके पड़ोसी हैं, हम तो आपके सुझाव पर अमल करने के लिए यहाँ आए थे। आप पड़ोस के गाँव की हैं ये तो पता था पर मेरी ससुराल की हैं ये नही पता था मुझे। अब मैं समझ गया कि आप मेरी पत्नी मधु की वही बचपन की सबसे अच्छी सखी हैं, जिसके वह आज भी गुण गाती है। सुधीर भावातिरेक में एक साथ बोल गया परंतु परिधि को इस समय ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे उसकी धमनियों मे रक्त प्रवाह रुक गया है, वह इस समय मधु का स्वागत करे या नहीं, उसे कुछ समझ नहीं आ रहा था। मधु ही थी जिसने उसकी दुनिया लूट ली थी, उसका मन कर रहा था कि वह पूछे कि अब क्या लेने आई है? क्या कुछ और भी दिखाई पड़ रहा है उसके पास जिसे वह छीन सके। परंतु वह बोल कुछ न सकी।
बिना किसी को कुछ बताए कहाँ गायब हो गई थी तू  और क्यों? मुझे आज तक समझ में नहीं आया। कहते-कहते मधु का गला भर आया, वह आगे बढ़कर परिधि से ऐसे लिपट गई जैसे कुछ हुआ ही न हो। परंतु परिधि की बेरुखी का अहसास उसे भी हो गया वह पीछे हटकर खड़ी हो गई।
बैठिए आप लोग, बैठिए न...  कुर्सी की ओर संकेत करते हुए परिधि ने कहा।
सुधीर को भी कुछ असहजता का अनुभव हुआ, बचपन की सखियों का मिलन उसे कुछ फीका-सा लगा। उसने एक कुरसी मधु की ओर सरका दिया और दूसरी पर खुद बैठ गया। मैं पानी लेकर आती हूँ, कहती हुई परिधि अपनी आँखों में आए पानी को छिपाती हुई भीतर जाने लगी... नहीं परिधि रुको न, हम यहीं से तो आए हैं प्यास नहीं, तुम भी बैठो.... कहती हुई मधु ने उसका हाथ पकड़ लिया।
परिधि ने दूसरे हाथ से आँखे साफ कीं और पलट कर आई और तीसरी कुरसी पर बैठ गई।
तुम दोनों पति-पत्नी हो.... परिधि ने इस प्रकार कहा जैसे वह विश्वास करना चाहती हो कि यही दोनों पति-पत्नी हैं... दरअसल उसने इतनी देर में अब पहली बार यह नोट किया कि यहाँ मधु के पति के स्थान पर कैलाश नहीं है बल्कि सुधीर है।
तू शादी में तो थी नहीं तो पहली बार ही देख रही है इसलिए तुझे विश्वास नहीं हो रहा है न.... पर तूने मेरे साथ ठीक नहीं किया.... मधु ने शिकायत भरे स्वर में कहा।
फिर  क्.कैलाश.... परिधि ने बात अधूरी छोड़ दी।
मधु इतने सालों बाद परिधि से मिली, परिधि ने चाहे खुलकर उसका स्वागत न किया हो पर वह अब उससे इतने वर्षों की सारी बातें करना चाहती थी, वह उसे छोड़कर जाना नहीं चाहती थी।
परिधि तेरे परिवार का कोई सदस्य दिखाई नहीं दे रहा, कहाँ हैं सब? मधु ने इधर-उधर देखते हुए कहा।
मैं ही मेरा परिवार हूँ मधु, मेरे अपने ने ही मेरी दुनिया बसने नहीं दी.... अपने-आप में खोई हुई सी परिधि ने जवाब दिया। उसके मनो-मस्तिष्क में तो सिर्फ एक ही सवाल कौंध रहा था कि कैलाश मधु के साथ क्यों नहीं है?
परिधि!  क्या मैं आज रात यहीं तेरे साथ रह सकती हूँ? मुझे तुझसे बहुत सारी बातें करनी हैं।  मधु ने पूछा।
और तेरे बच्चे.... परिधि ने कहा
आप फिक्र न करें उन्हें मैं संभाल लूँगा। मधु के हृदय की बात समझ सुधीर ने कहा।
ठीक है आओ आप लोग अंदर यहाँ ठंड बढ़ गई है।कहती हुई परिधि खड़ी हो गई।
नहीं आज आप दोनों बातें कीजिए मैं चलता हूँ। गुड नाइट... कहता हुआ सुधीर बाहर की ओर चल पड़ा।
खाना खाया मधु या कुछ बनाऊँ?  परिधि ने अनमने भाव से ही मानवता के कारण पूछा।
नहीं मैं तो खाकर आई हूँ तुमने नहीं खाया क्या?
मधु ने कहा।
मैं खा चुकी हूँ। परिधि ने जवाब दिया।
ऐसा प्रतीत होता है कि मुझे देखकर तुम्हें खुशी नहीं हुई... मधु ने परिधि के चेहरे पर नजरें गड़ाते हुए कहा। ऐसा लग रहा था कि वह परिधि के अंतर्मन को पढ़ने की कोशिश कर रही है।
मेरी जगह यदि तुम होतीं तो क्या तुम खुश होतीं? परिधि ने पूछा
मैं क्यों खुश नहीं होती परिधि, आखिर कारण का पता मुझे भी तो चले....
चलो आओ बेडरूम में चलते हैं वहीं बात करेंगे.... कहती हुई परिधि बेडरूम की ओर बढ़ गई मधु भी उसके पीछे-पीछे चलने लगी।
दोनों बेड पर बैठ गईं....
हाँ तो परिधि बताओ मैं खुश क्यों नहीं होती?  मधु ने कहा।
कैलाश.... कैलाश कहाँ है मधु?
परिधि ने सर्द स्वर में कहा।
इस बात का मेरे प्रश्न से क्या संबंध है? मधु ने अचकचाते हुए पूछा।
क्यों नहीं है मधु?  वो तो तुझसे शादी करने वाला था न?
अचानक मधु के पैरों तले जमीन खिसक गई... उसे मानो काटो तो खून नही....तू ये क्या कह रही है? तुझसे ऐसा किसने कहा? मधु ने हड़बड़ाकर पूछा।
मैंने खुद उसे तेरे ही घर में तेरे और तेरे माँ-बापू के सामने कहते सुना था। क्या अब भी कहेगी कि मैं झूठ बोल रही हूँ?  तुझे नहीं पता था कि मैं उससे कितना प्यार करती थी....तुम दोनों ही मेरे लिए बहुत प्रिय और विश्वसनीय थे और तुम दोनों ने ही मेरी दुनिया उजाड़ दी....फिर पूछती है कि मैं छोड़कर क्यों आ गई?  मैं आज खुश क्यों नहीं हूँ?  मुझे तो बस ताज्जु़ब बस एक बात का हो रहा है कि तेरा पति सुधीर कैसे, कैलाश क्यों नहीं????
मधु की आँखों से लगातार अश्रुधार बह रही थी, वह चाहकर भी स्वयं को रोने से रोक नहीं पा रही थी। मैं कितनी अभागी हूँ कि मेरी ही वजह से मेरी सबसे प्रिय सखी का जीवन उजाड़ हो गया, काश उस दिन मैं थोड़ा धैर्य रख लेती.....काश तू थोड़ा धैर्य रखकर घर छोड़ने से पहले सच्चाई पूछ लेती.....तुझे मुझसे लड़ना चाहिए था पगली...तू अपनी दुनिया त्याग आई....अरे तुझे तो आज तक ये भी नहीं पता कि कैलाश के लिए तेरे दिल में प्यार के भाव तुझसे पहले मैं समझ गई थी...... फिर मैं ही तेरी बर्बादी का कारण बन गई....... कहते-कहते मधु सिसक पड़ी।
परिधि अवाक् सी मधु को देखती रह गई, उसने मधु को गले से लगा लिया। मधु खूब रोई।
कुछ देर तक कमरे में चुप्पी छाई रही बस बीच-बीच में मधु की सिसकियाँ सन्नाटे को भंग करती रहीं।
परिधि ने गिलास मधु की ओर बढ़ाते हुए कहा- पानी पी ले और मुझे बता कि जो मैंने देखा वो सब क्या था?
मधु ने पानी पीया और गिलास एक ओर मेज पर रख दिया और एक लंबी साँस लेकर बोलना शुरू किया....
मैं और सुधीर एक-दूसरे से बेहद प्यार करते थे...
हम दोनों ने अपनी सीमाएँ लांघ दी थीं जिसका परिणाम यह हुआ कि मैं प्रेगनेंट हो गई, तू भी उन दिनों शहर में अपनी पढ़ाई में व्यस्त थी और सुधीर नौकरी के लिए परीक्षा की तैयारी कर रहे थे तो वो भी शहर चले गए थे। जब मुझे पता चला तो मैंने सुधीर के पास पत्र भेजे पर वो उन तक पहुँचे ही नहीं मुझे लगा सुधीर जानबूझ कर मुझसे दूरी बना रहे हैं, उन्होंने मुझे धोखा दिया। इधर मेरी तबियत बिगड़ने लगी तो माँ को पता चल गया और माँ-बापू ने मुझे बहुत खरी-खोटी सुनाई, यहाँ तक कि माँ ने मुझे मर जाने तक को कह दिया, सही भी था समाज में उनकी क्या इज्ज़त रह जाती.... मुझे भी लगा कि अब सुधीर से भी कोई आशा न थी.... मुझे लगने लगा कि मेरा मर जाना ही सबके हित में होगा और मैं नदी में कूद गई।   वहाँ कैलाश बाबू ने मुझे कूदते  देख लिया और मेरी जान बचा ली। फिर मुझे लेकर घर आये और माँ-बापू को समझाने लगे। पर बापू ने यही पूछा कि लोगों से सच्चाई कैसे छिपाएँ.... गाँव में तो वह किसी को मुँह दिखाने लायक भी नहीं बचे....तब माँ-बापू को तसल्ली देने के लिए ही कैलाश बाबू ने मुझसे शादी का वादा कर दिया पर वह सुधीर को ढूँढ़ना चाहते थे इसलिए उन्होंने पंद्रह दिन का समय भी माँगा ताकि अपने घर की शादी का काम समाप्त कर वो शहर जाकर सुधीर को ला सकें।
मधु बिना रुके लगातार बोलती जा रही थी जबकि परिधि को ऐसा महसूस हो रहा था जैसे धीरे-धीरे कोई उसके शरीर से रक्त की एक-एक बूँद निकाल रहा हो....उसे अपना दिल मुट्ठी में भिंचा हुआ महसूस हो रहा था....वह निर्विकार बैठी हुई थी और उसकी आँखों से अश्रुधार लगातार बहती जा रही थी।
परि..... परिधि..मधु ने उसे झंझोड़ कर चेतनावस्था में लाने का प्रयास किया...
हं..हं.. परिधि जैसे चौंककर जागृत हुई
तूने मुझे क्यों नहीं बताया था...मैं भी तो वहीं थी... परिधि ने लगभग चीखते हुए कहा......
उसे आज फिर से वैसी ही बेबसी का अहसास हो रहा था जैसा उस समय हुआ था जब उसने कैलाश की मधु से शादी की बात सुनी थी।
हाँ, काश कि मैंने तुझे बता दिया होता, पर उस समय मेरी मनोस्थिति कैसी थी मैं नहीं बता सकती, मेरा किसी से बात करने का मन नहीं करता था, मैं सुधीर को धोखेबाज समझ भीतर ही भीतर मर रही थी, अपने-आप से लड़ रही थी, मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था।

अब...अब कैलाश कहाँ है?  तुझे तो पता होगा... परिधि ने बेचैन होकर पूछा
हाँ....वो तुझे बहुत प्यार करता है परिधि.....पागलों की तरह चाहता है तुझे....घर वालों ने कितनी कोशिश की कि वह शादी कर ले पर वो आज भी तेरा इंतजार कर रहा है।
मैं चलूँगी उसके पास मधु प्लीज वहाँ ले चल मुझे, अब और इंतजार नहीं होता...और तू मुझे माफ कर दे, मैं तेरी भी गुनहगार हूँ तुझ पर विश्वास नहीं किया....सच कहती है तू मुझे धैर्य रखकर पूछना चाहिए था तुझसे... सॉरी....परिधि ने मधु के समक्ष हाथ जोड़ दिए।
तू पागल है, सचमुच पागल...कहकर रोते हुए मधु ने उसे गले से लगा लिया।
अब दोनों को नींद कहाँ आती पूरी रात दोनो बातें करती रहीं।
मधु नींद तो मुझे आ नही रही मैं अपने कपड़े पैक कर लेती हूँ, तू मुझे पता बता दे मैं कल ही कैलाश से मिलने जाऊँगी.....
तू जब इतने वर्षों तक रुकी रही तो कुछ समय और धैर्य रख मैं उसे यहीं बुला देती हूँ। मधु ने कहा
जब मुझे धैर्य रखना चाहिए था तब नहीं रखा तो अब मैं बिल्कुल धैर्य नहीं रख सकती, तू मुझे पता बता मैं सुबह ही जाऊँगी.... परिधि की व्याकुलता साफ-साफ महहूस कर सकती थी मधु।
ठीक है पर तू अकेली जाएगी, सुधीर जी को ले जा साथ...मधु ने कहा।
नही..नहीं...मैं अकेली ही जाऊँगी।

बेटा ग्यारह बज चुके हैं अब तो उठ जाइए... बूढ़े काका ने कहा
काका थोड़ा और सोने दो...
रात-रात भर जागते रहते हो और दोपहर तक सोते हो....  कितने साल हो गए हैं सुबह के सूरज का मुख देखे....बिटवा पहले तो मुँह अँधेरे ही उठ जाते थे और अब तो जैसे सुबह के उजियारे से जी चुराते रहते हो...कहते हुए काका बाहर आ गए। अचानक गेट पर कोई स्त्री खड़ी भीतर देख रही थी... काका को देखकर इशारे से उन्हें बुलाया...
ये कैलाश का घर है... परिधि ने पूछा
हाँ, बिटिया पर आप कौन हो...काका ने पूछा
मैं उसके गाँव से हूँ काका.... वो कहाँ है अभी?
बिटिया आप आओ मैं उन्हें जगाता हूँ वो अभी सो रहे हैं.....काका ने बताया
सो रहे हैं....अभी.... परिधि अपने-आप से बड़बड़ाई
काका रुकिए....कहती हुई परिधि काका के पीछे लपकी
आपको कोई एतराज न हो तो मैं भी चलूँ आपके साथ.... परिधि ने कहा
आप....काका को थोड़ा आश्चर्य हुआ
हाँ...काका प्लीज मना मत करिएगा... परिधि ने विनती की।
चलिए.....
बड़ा सा हॉल पार करके दोनों कमरे में पहुँचे, बड़ा सा कमरा, खिड़कियों पर अभी भी धूप से बचने के लिए परदे डाले हुए थे, बेड के दोनों ओर के मेजों पर किताबें और कुछ लेखन सामग्री रखी हुई थीं। दीवार पर बुक शेल्फ तरह-तरह की पुस्तकों से भरी हुई थी। एक ही नजर में परिधि ने कैलाश के बदले हुए जीवन का जायजा ले लिया। उसने काका की ओर देखा और जाकर पहले खिड़कियाँ खोल दीं।
बेटा आपसे कोई मिलने आया है.... काका ने कैलाश को जगाते हुए कहा।
काका उन्हें बिठाओ मैं अभी आता हूँ।....कहकर कैलाश उठ बैठा और..... वह अपनी आँखों को हथेली से रगड़ने लगा, उसे लगा उसकी आँखें धोखा खा रही हैं.....
काका बाहर जा चुके थे।
परी....क्या.... क्या सचमुच तुम हो....
हाँ कैलाश.... मुझे माफ कर सकोगे.... कहती हुई वह रो पड़ी.... कैलाश वने बाँहें फैला दीं, आज उसकी दुनिया उसकी बाँहों में सिमट आई है....दोनों की आँखों से शिकवे-गिले आँसू बनकर बह रहे थे।
मालती मिश्रा

1 comment:

  1. बहुत ही सुंदर कहानी है। पढने में आनंद आया।

    ReplyDelete